योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने से बीजेपी को मिलेंगे ये लाभ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने से भारतीय जनता पार्टी को कई लाभ मिल सकते हैं। गोरखपुर से चुनाव लड़ने पर योगी आदित्यनाथ न सिर्फ गोरखपुर बल्कि पूर्वांचल के तकरीबन 15 जिलों पर असर डालेंगे।

शुरुआत से ही भाजपा का पूर्वांचल पर सबसे ज्यादा फोकस रहा है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनके अपने गढ़ गोरखपुर से विधानसभा चुनाव लड़ाने का एलान करके भाजपा ने वह सभी समीकरण साध लिए जिसके लिए वह शुरुआत से ही राजनीतिक गुणा-भाग लगा रही थी।

योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने का असर यह होगा कि पूर्वांचल के ज्यादातर जिले उनके चुनाव लड़ने के नाम से ही ‘भाजपा की टोन’ के हिसाब से सेट हो जाएंगे। वह कहते हैं कि इस चुनाव में भाजपा को सिर्फ गोरखपुर ही नहीं बल्कि संतकबीर नगर, देवरिया, बस्ती, महाराजगंज, कुशीनगर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, अंबेडकर नगर और सिद्धार्थनगर जैसे जिलों में और मजबूती मिलेगी।

आजमगढ़ समाजवादी पार्टी का बड़ा गढ़ रहा है इसलिए योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर से चुनाव लड़ने का असर वहां पर पड़ेगा। इसके अलावा मऊ और गाजीपुर समेत निषाद, केवट समेत और कई अन्य पिछड़ी और अति पिछड़ी जातियों के इलाकों में भी योगी आदित्यनाथ का चुनाव लड़ने वाला कार्ड सटीक बैठेगा।

यह भी पढ़ें:

जितेंद्र नारायण त्यागी की जमानत याचिका खारिज