संकट के समय में मास्क और हैंड सैनिटाइजर की कालाबाजारी, देशभर में 4000 मामले दर्ज

कोरोना संकट में वायरस से बचाव के लिए हर किसी की जरुरत बन चुके मास्क और सैनेटाइजर की कालाबाजारी देशभर में चरम पर है। केंद्र सरकार द्वारा मास्क और सैनिटाइजर को आवश्यक वस्तु अधिनियम के दायरे में शामिल किया जा चुका है। इसके बावजूद देश के कई हिस्सों में इन्हें तय कीमत से अधिक में बेचे जाने की शिकायत मिल रही है। सबसे ज्यादा शिकायतें राजधानी राजस्थान से दर्ज हुई है। देशभर में इस मामले में कुल चार हजार केस दर्ज हुए है।

मास्क और सैनिटाइजर की अधिकतम खुदरा मूल्य से अधिक कीमत वसूलने की शिकायत का निरिक्षण करने में उत्तर प्रदेश सबसे आगे है। वही दूसरे नंबर पर राजस्थान है। लॉकडाउन के दौरान पिछले दो हफ्ते में देशभर से मास्क और हैंड सैनिटाइजर की मनमानी कीमत वसूलने की पांच सौ से अधिक शिकायत मिली है। राज्यों की तरफ से इनकी कीमतों पर अंकुश लगाने हेतु निरिक्षण किये गए है, जिनमें अब तक कुल चार हजार के खिलाफ कार्यवाही हुई है।

दिल्ली में राज्य सरकार ने 1633 निरीक्षण किए और 1334 के खिलाफ मामला दर्ज किया। वही उत्तराखंड में मास्क और हैंड सैनिटाइजर की कीमतों को लेकर सिर्फ 15 शिकायत मिली लेकिन राज्य सरकार ने 4 हजार 198 निरीक्षण कर 1042 मामले दर्ज किये। वही राजस्थान में 201 शिकायत मिली और सरकार ने 4698 निरीक्षण कर 417 के खिलाफ मामले दर्ज किये। इसके अलावा पंजाब में 173 और उत्तर प्रदेश में 192 मामले दर्ज हुए।

यह भी पढ़े: तबलीगी जमात से जुड़े 2,200 विदेशी नागरिक ब्लैक लिस्ट, 10 साल तक नहीं आ पाएंगे भारत
यह भी पढ़े: चीन ने की पाकिस्तान वाली 1971 की तरह कायराना हरकत