शारीरिक संबंध के बाद ब्लीडिंग होती है तो करें ये काम

शारीरिक संबंध बनाने के बाद योनि से ब्लीडिंग होने की समस्या को मेडिकल की भाषा में पोस्टकोइटल ब्लीडिंग कहा जाता है। यह समस्या किसी भी उम्र की महिलाओं को हो सकती है, लेकिन जो महिलाएं मेनोपॉज से ग्रसित नहीं होती हैं उनमें यह समस्या सर्विक्स के कारण होती है तथा मेनोपॉज से पीड़ित महिलाओं में यह दूसरे कई कारणों से होती है।

सर्वाइकल और वेजाइनल कैंसर के कारण शारीरिक संबंध के बाद योनि से खून आने की समस्या पैदा हो सकती है। पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज, यौन संचारित रोग, सर्विक्स में सूजन और योनि में सूजन (वाइजेनाइटिस) के कारण योनि से ब्लीडिंग हो सकती है।

शारीरिक संबंध के दौरान अधिक शक्ति या ताकत का इस्तेमाल करने से भी सेक्स के बाद योनि से ब्लीडिंग हो सकती है। क्योंकि इससे योनि के अंदर खरोंच आ जाती है। प्रेग्नेंसी के दौरान या बाद में एंटी एस्ट्रोजन दवा का सेवन करने से योनि में ड्राइनेस की समस्या पैदा होती है, जो आगे जाकर सेक्स के बाद ब्लीडिंग का कारण बन सकता है। योनि ड्राई यानी सुखी होने के कारण भी कई बार सेक्स करने के बाद ब्लीडिंग होती है। योनि की स्किन बहुत ही कोमल और नाजुक होती है, इसलिए फ्रिक्शन के कारण इसके डैमेज होने की संभावना बढ़ जाती है।

अगर योनि में ड्राइनेस के कारण ब्लीडिंग की समस्या होती है तो इससे बचने के लिए आप मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। नियमित रूप से योनि की स्किन पर मॉइश्चराइजर लगाने से योनि के अंदर की स्किन में नमी आती है तथा रूखापन खत्म हो जाता है।

योनि में नमी आने से शारीरिक संबंध के दौरान घर्षण से होने वाले चोट की संभावना कम हो जाती है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना है की पुरुष शारीरिक संबंध के दौरान अधिक ताकत न दिखाएं और अगर महिला को किसी प्रकार की कोई परेशानी हो तो तुरंत रुक जाएं। धीरे धीरे आराम से करें।

अगर ब्लीडिंग की समस्या लगातार रहती है तो जल्द डॉक्टर से संपर्क करें।

जानिए, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या को दूर के लिए सबसे आसान उपाय

पुरुषों में स्पर्म काउंट घटने के कारण, लक्षण और उपाय