BPSC Paper Leak केस में बड़ा एक्शन, मजिस्ट्रेट, प्रिंसिपल समेत 4 गिरफ्तार

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) की 67 वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा के पेपर लीक (Paper Leak) होने के मामले में भोजपुर जिले के एग्जाम सेंटर (Exam Center) कुंवर सिंह कॉलेज से जुड़े चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गिरफ्तार लोगों में कॉलेज के प्रिंसिपल योगेन्द्र प्रसाद सिंह और ब्लॉक डेवलेपमेंट अधिकारी (BDO) जयवर्धन गुप्ता के अलावा कॉलेज के 2 लेक्चरर शामिल हैं. पुलिस पूरे मामले की छानबीन में जुटी है. जयवर्धन गुप्ता एग्जाम सेंटर मजिस्ट्रेट थे.

पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि 67वीं संयुक्त (प्री) प्रतियोगिता परीक्षा के प्रश्न-पत्र वायरल होने के संबंध में आर्थिक अपराध थाना में मामला दर्ज किया गया है. पुलिस जांच में जुटी है. कुछ संदिग्ध लोगों से पूछताछ भी की जा रही है. अब तक मिली जानकारी के मुताबिक क्राइम यूनिट की टीम केस से जुड़े लोगों की लिस्ट तैयार कर रही है.

घर से ही गिरफ्तार हुआ था जयवर्धन गुप्ता
जयवर्धन गुप्ता को पुलिस ने उसके घर से ही हिरासत में लिया था और पटना में पूछताछ की थी. पूछताछ के बाद ही उसकी गिरफ्तारी हुई थी. आरा के कुंवर सिंह कॉलेज में पेपर लीक होने के बाद भड़के हंगामे की वजह से बिहार लोक सेवा आयोग ने एग्जाम को रद्द कर दिया था. आयोग ने इस केस की जांच के लिए कमेटी गठित की है और केस को आर्थिक अपराध यूनिट को सौंप दिया था.

क्या है सीएम नीतीश का रिएक्शन?
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि सरकार पेपर लीक मामले में एक्शन ले रही है. पेपर लीक की बात सामने आने के बाद एग्जाम को तत्काल रद्द कर दिया गया था. विपक्ष ने पेपर लीक की खबर सामने आने के बाद नीतीश कुमार पर निशाना साधा था. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा था कि अगर बीपीएससी जैसी परीक्षाओं का पर्चा लीक हो जा रहा है तो फिर क्या बचा है.