बाल-बाल बची ब्रह्मपुत्र मेल ट्रेन, टूटे एक्सल बॉक्स के साथ दौड़ती रही पटरी पर

रेलवे विभाग की लापरवाही से बिहार में एक बड़ा रेल हादसा होते होते बच गया। दिल्ली से डिब्रूगढ़ जाने वाली ब्रह्मपुत्र मेल टूटे एक्सल बॉक्स के साथ पटरी पर दौड़ती रही। इस दौरान कोच में सवार सभी यात्रियों के बीच अफरातफरी का मच गया। ट्रेन के भागलपुर जंक्शन पहुंचने के बाद कोच को बदल कर नया कोच लगाया गया और उसे फिर डिब्रूगढ़ के लिए रवाना किया गया। इस दौरान दो घंटे तक ट्रेन स्टेशन पर खड़ी रही।

गाड़ी में सवार लोगों ने पटना से ही एक्सल फेस बॉक्स का आवाज सुनाई पड़ने की बात कही। यात्रियों का कहना है कि तार से बांधकर नट वोल्ट टाइट करने के बाद गाड़ी को आगे बढ़ाया गया। आगे बढने पर जमालपुर के बाद तेज आवाज कोच में सुनाई दी। हालांकि ट्रेन की रफ्तार अधिक थी और रफ्तार तेज होने के कारण बॉक्स खुल कर गिर गया। जिसके बाद इसकी जानकारी भागलपुर में कैरेज एंड वैगन को दी गई। भागलपुर जंक्शन पर ट्रेन के आने के बाद क्षतिग्रस्त एस-वन कोच को हटाकर नया कोच लगाया गया और उसके बाद रात 9.55 बजे डिब्रूगढ़ के लिए ट्रेन रवाना हुई। मुख्य यार्ड मास्टर प्रमोद कुमार समेत कैरेज एंड वैगन के सीनियर सेक्शन इंजीनियर और रेलवे की पूरी टीम इस दौरान लगी रही।

यात्रियों ने बताया कि ट्रेन शाम साढ़े छह बजे के करीब जमालपुर जंक्शन पहुंची और जमालपुर में ही गार्ड की ड्यूटी बदली गयी। इस दौरान यात्रियों में अफरातफरी का माहौल बना रहा। रेलवे के अधिकारी और कर्मचारी समेत जीआरपी और आरपीएफ के अधिकारी जवानों के साथ मुस्तैद रहे। अभी तक सभी यात्रियों के सही सलामत होने की खबर है।