बजट 2021: मिडिल क्लास को राहत नहीं, दो सरकारी बैंकों का होगा निजीकरण

केंद्र सरकार की तरफ से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज सोमवार को आम बजट 2021 पेश कर रही हैं। इस बजट के जरिये सरकार ने आम आदमी के हितों का साधने का प्रयास किया है। लेकिन मिडिल क्लास को एक बार फिर से निराशा ही हाथ लगी हैं। बजट में इनकम टैक्स स्लैब में किसी तरह का बदलाव नहीं किया गया हैं और बिना इनकम स्रोत वाले 75 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग लोगों के लिए आईटीआर फाइल की आवश्यकता को खत्म कर दिया गया हैं।

वित्त मंत्री ने करीब पौने दो घंटे के अपने भाषण में बैंकिंग से जुड़े कई बड़े ऐलान भी किये हैं। जिसके तहत कहा गया हैं कि यदि कोई बैंक डूब जाता है तो खाताधारकों को 5 लाख रुपये तक की रकम वापस मिल जायेगी। इससे पहले पेश किये गए बजट में यह रकम 1 लाख रूपये तक ही सीमित थी, जिसे अब बढ़ा दिया गया हैं। यही नहीं नए बजट में वित्त मंत्री ने दो सरकारी बैंकों को प्राइवेट करने और साथ में किसानों के लिए भी कुछ बड़े एलान किये हैं।

रेल, रोड, मेट्रो समेत तमाम इन्फ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के ऐलान के साथ ही वित्त मंत्री ने कृषि सेक्टर के लिए 16.5 लाख करोड़ रुपये आवंटित करने की घोषणा की हैं। वित्त मंत्री ने देश भर में फसलों की MSP पर खरीद जारी रखने का एलान किया हैं। इसके अलावा सोना-चांदी सस्ता और मोबाइल फोन महंगे होने की बात कही गई हैं। दरअसल, सरकार ने मोबाइल उपकरणों की कस्टम ड्यूटी 2.5 पर्सेंट बढ़ाई है, जिससे आने वाले समय में मोबाइल्स महंगे होंगे।

यह भी पढ़े: आंखों की रोशनी बरकरार रखने के लिए इन बातों पर दीजिए विशेष ध्यान
यह भी पढ़े: लौंग की चाय पीने से मिलते हैं इतने फायदे,जानकार दंग रह जाएंगे आप