ऐसा फुटवियर पहनना हो सकता है घातक ?

फुटवियर्स का चुनाव करते समय अपने पैरों की संरचना को ध्यान में रखना बेहद जरूरी होता है। गलत फुटवियर पहनने से सबसे पहले चलने के तरीके में बदलाव आ जाता है। इससे कई तरह की बीमारियों की आशंका भी बढ़ जाती है, जैसे पैरों की बनावट में बदलाव, चाल खराब होना, फंगल इन्फेक्शन, कमर दर्द, घुटने में दर्द, पिंडलियों में दर्द।

आइए, जानते हैं टाइट व गलत माप का जूता पहनने से और क्या-क्या परेशानियां हो सकती हैं।

बनियन : बनियन (Bunion) यानी अंगूठे के जोड़ की हड्डी बढ़ना। यह समस्या उन लोगों में ज्यादा होती है, जो कसे पंजे वाले जूते पहनते हैं। इससे अंगूठा पैरों की उंगली की ओर बढ़ने लगता है, जो सूजन और दर्द का कारण बन जाता है।

हैमर टो : इसका मुख्य कारण भी गलत तरह के जूते पहनना है। नुकीले पंजों वाले जूते पहनने पर पंजे कसे रहते हैं और सीधे नहीं रह पाते। साथ ही ये धीरे-धीरे नीचे की ओर मुड़ने लगते हैं। इससे पंजों के ऊपरी हिस्सों में घाव बन जाता है।

फुट कॉर्न : फुट कॉर्न यानी पैरों में कील निकलना। तलवों में घर्षण के कारण होता है। बाहरी सतह पर जहां गलत जूते पहनने से दबाव पड़ता है, वहां की सख्त त्वचा इकट्ठी हो जाती है। इसमें दर्द भी हो सकता है।

हैलक्स रिजिड्स : इस रोग में अंगूठे की हड्डियों के जोड़ जाम हो जाते हैं, पैरों में दर्द बढ़ जाता है और सूजन आ जाती है। यह भी त्वचा के लिए खतरनाक होता है।

मोर्टन न्यूरोमा : मोर्टन न्यूरोमा एक दर्दनाक स्थिति है, जिसमें रोगी के पैर की तीसरी और चौथी उंगली के बीच सूजन, सनसनी, असहनीय दर्द, सुन्नता होती है, जो पैरों को नुकसान पहुंचा सकती है।

आरएमएल के ऑर्थोपेडिक सर्जन के अनुसार, पंजों पर पूरे शरीर का भार होता है। अगर फुटवियर ठीक नहीं है तो उससे शरीर के दूसरे हिस्से जैसे कमर, पैर, रीढ़ की हड्डी सीधे प्रभावित होती है।