Uric Acid को कंट्रोल करने में मददगार है गाजर और चुकंदर का जूस, जानिए डाइट में शामिल करने का सही तरीका

Anna Pustynnikova/Getty Images

यूरिक एसिड एक ऐसा केमिकल है जो शरीर में तब बनता है जब शरीर प्यूरिन (purine) नामक केमिकल का संसाधन करता है यानि उसको छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ता है। शरीर में जब यूरिक एसिड अधिक मात्रा में बनने लगता है तो इससे लोग कई बीमारियों से पीड़ित हो जाते हैं। गठिया रोग, जोड़ों में दर्द, गाउट (एक प्रकार का गठिया) और सूजन जैसी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का एक आम कारण यूरिक एसिड का बढ़ना भी माना जाता है।

बता दें कि जब किडनी सही तरह से फिल्टर करने में असमर्थ हो जाती है तो यूरिया, यूरिक एसिड में परिवर्तित होकर हड्डियों के बीच जमा हो जाता है जिससे पैरों में सूजन और दर्द बढ़ जाता है। वहीं, प्यूरिन केमिकल हमारे शरीर में खुद-ब-खुद तो बनते ही हैं, साथ में ये केमिकल कुछ फूड आइटम्स में भी मौजूद होते हैं । ऐसे में ये जानना बहुत जरूरी है कि शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को कंट्रोल करने के लिए क्या खाना फायदेमंद रहेगा और क्या नहीं।

गाजर-चुकंदर जूस: गाजर और चुकंदर का जूस पीने से भी शरीर में पीएच लेवल बढ़ता है जिससे कि यूरिक एसिड की मात्रा कम होती है। चुकंदर में मिनरल, कार्बोहाईड्रेट, विटामीन और क्लोरिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके सेवन से किडनी की फिल्टर करने की क्षमता बढ़ती है जिससे ये शरीर में यूरिक एसिड को बढ़ने से रोकता है। आपको बता दें कि किडनी फिल्टर करके शरीर में मौजूद वेस्ट प्रोडक्ट्स को मल, मूत्र के जरिये निकालने का काम करता है। वहीं गाजर में विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं जो यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में सक्षम हैं। इसके अलावा, ये शरीर के फ्री रेडिकल्स को कंट्रोल करने में भी मददगार होते हैं। साथ ही जोडों के दर्द और सूजन को कम करने के लिए भी गाजर का सेवन फायदेमंद होता है। इसे बनाने के लिए गाजर, चुकंदर और पुदीने की पत्तियों को मिक्सर में डाल दें। अब इसमें पानी, नींबू का जूस, हिमालयी नमक और पुदीने की पत्तियां डालकर जूस तैयार कर लें।

इन चीजों को न करें डाइट में शामिल: हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड ज्यादा मात्रा में मौजूद है तो अधिक प्रोटीन युक्त खाना न खाएं। 100 ग्राम प्रोटीन में लगभग 200 मिली ग्राम प्यूरीन मौजूद रहता है जो कि यूरिक एसिड बनाने में मदद करता है। इसके अलावा, अधिक फ्रुक्टोज वाला खाना खाने से भी शरीर में यूरिक एसिड बढ़ता है। वहीं, मांसाहारी लोगों को कलेजी और गुर्दा खाने से बचना चाहिए, इन्हें खाने से भी यूरिक एसिड का स्तर बढ़ता है। सी फूड जैसे झींगा, केकड़ा और टूना, ट्राउट जैसी आम मछलियां खाने से भी यूरिक एसिड की मात्रा में इजाफा होता है।

यह भी पढ़े-

फैटी लिवर को कम करने में मददगार है कॉफी, इन चीजों को खाने से भी होगा फायदा