Breaking News
Home / नवरात्रि

नवरात्रि

सीता के अपमान को न सह सकने के कारण लक्ष्मण ने काटी थी शूर्पणखा की नाक

एक समय की बात है पंचवटी में राम, लक्ष्मण, सीता तीनों कुटी के सामने चबूतरे पर बैठे थे । इतने में कहीं से एक राक्षसी आई । राम को देखते ही उसके  मन में राम के प्रति लालच आ गया वह राम को वरने की सोचने लगी ।   दानवी शूर्पणखा ने अपना परिचय सभी को दिया की मैं महाप्रतापी …

Read More »

माँ सिद्धिदात्री ही भगवान् शिव के अर्धनारीश्वर रूप को करती हैं पूर्ण

माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। नवरात्र  के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है| माँ सिद्धिदात्री सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। है। इनका वाहन सिंह है। माँ सिद्धिदात्री ही भगवान् शिव के अर्धनारीश्वर रूप को पूर्ण करती हैं इसलिए माँ को “अर्धनरेश्वर” के नाम से भी जानते है| माँ दुर्गा के इस स्वरुप के …

Read More »

इस बार दशहरे पर राफेल के साथ शस्त्र पूजा करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस में लड़ाकू विमान राफेल के साथ ही शस्त्र पूजा भी करेंगे। गृहमंत्री रहते हुए उन्होंने हर साल शस्त्र पूजा की। पिछले साल भी राजनाथ सिंह ने बीएसएफ के जवानों के साथ बीकानेर में शस्त्र पूजा की थी। फ्रांस यात्रा के दौरान राजनाथ सिंह राफेल विमान लेने के बाद फ्रांसीसी सरकार के अधिकारियों के साथ …

Read More »

अष्टमी के दिन सुहागन स्त्री माँ महागौरी को करती है चुनरी अर्पण

माँ भगवती की आठवीं शक्ति का नाम माँ महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी मुद्रा अत्यंत शांत-सरल मनमोहक है। माँ महामाई महागौरी अत्यंत  करूणामयी, स्नेहमयी, और मृदुल हैं।   गौर वर्ण माँ की उपमा शंख, चंद्र और कुंद के फूल से दी गई है।इनके समस्त वस्त्र एवं आभूषण  श्वेत हैं। इनका वाहन वृषभ …

Read More »

माँ कालरात्रि की कृपा से उनके साधक हो जाते है सर्वथा भय-मुक्त

माँ भगवती की सातवीं शक्ति माँ “कालरात्रि” के नाम से जानी जाती हैं।नवरात्री के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना की जाती है। माँ कालरात्रि का स्वरूप भयानक है, लेकिन ये सदैव अपने भक्तों को  शुभ फलदायनी हैं। इसी कारण इनका नाम ‘शुभंकारी’ भी है। इस दिन साधक का मन ‘सहस्रार’ चक्र में स्थित रहता है। उनके साक्षात्कार से वह …

Read More »

विवाह मे विलम्ब कन्याओ को करनी चाहिए माँ कात्यायनी की उपासना

नवरात्रि के छठे दिन माँ ‘कात्यायनी’ की आराधना की जाती है। कात्यायनी नाम गौरी, काली,  भद्रकाली, हेेमावती,  नाम माँ पार्वती के ही है। आदिशक्ति देेव हुई थीं , जिन्होंने देवी पार्वती द्वारा दी गई सिंह पर आरूढ़ होकर महिषासुर का वध किया। वे शक्ति ही आदि रूपा है, योगसाधना में इस दिन साधक का मन “आज्ञा चक्र” में स्थित होता …

Read More »

व्रत करना भी पड़ सकता है भारी, जानिए किसे नहीं करना चाहिए उपवास

उपवास या व्रत ज़िंदगी का एक अहम हिस्सा होने के साथ ही सेहतमंद होने का एक तरीका भी है। गरिष्ठ पदार्थों के सेवन से बिगड़े पाचन तंत्र को सुधारने का भी एक तरीका उपवास या व्रत है। उपवास से मल-मूत्र के विकार दूर होते हैं। कहा यह भी जाता है कि उपवास या व्रत से रक्त संचार में सुधार होता …

Read More »

कमल आसन पर विराजमान स्कन्दमाता करती है अपने भक्तों के कष्टों को दूर

नवरात्रि के पाँचवे दिन स्कंदमाता की उपासना की जाती है। संपूर्ण मनोरथों को पूर्ण करने वाली वरदयानी माता अपने भक्तों की समस्त मनोकामना को पूर्ण करती है।  भगवान स्कंद की माता होने के कारण माँ भगवती को स्कंदमाता के नाम से जाना जाता है। माँ की चार भुजाएँ हैं। इनके दाहिनी तरफ की नीचे वाली भुजा में कमल पुष्प है। …

Read More »

माँ कूष्माण्डा की उपासना मनुष्य को सारी व्याधियों से ले जाती है दूर

चतुर्थी के दिन नवरात्रि के माँ कुष्माण्डा देवी की उपासना की जाती है। आज के दिन मां को पूर्ण पवित्र और अचंचल कर कूष्माण्डा देवी की पूजा-उपासना करनी चाहिए। इनका वाहन सिंह है।   माँ  कुष्मांडा की आठ भुजाएँ हैं। ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमंडल, बाण, कमल-पुष्प, घनुष, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें …

Read More »

51 शक्तिपीठ जहाँ माँ सती के अंगो के चिन्ह आज भी है उपस्थित

माँ जगतजननी की महिमा सबसे निराली है|भगवान शिव जब माँ सती का देह लेकर तांडव कर रहें थे उस समय सभी देवताओं को चिंता सताने लगी| तभी  भगवान विष्णु के चक्र ने माँ सती के देह के विच्छेद किया व महाकाल के तांडव के  समय  माँ की देह के अंग ने अलग-अलग जगह अपना स्थान लिया| आज भी माँ का …

Read More »