सीबीआई ने मुख्य इंजीनियर,तीन अन्य को किया गिरफ्तार

ओड़िसा में केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पारादीप पोर्ट ट्रस्ट के मुख्य मैकेनिकल इंजीनियर और इसमें शामिल दलाल सहित तीन लोगों को रिश्वत के मामले में गिरफ्तार कर 84.5 लाख रुपये बरामद किए हैं।


सीबीआई के सूत्रों ने यहां शुक्रवार को कहा कि मामला पारादीप पोर्ट ट्रस्ट (ओड़िसा) के मुख्य मैकेनिकल इंजीनियर और अन्य निजी व्यक्तियों , एक निजी कम्पनी और अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।


ट्रस्ट के मुख्य इंजीनियर पर आरोप है कि वह तटीय सेवा और गतिविधियों लगे विभिन्न निजी हितधारकों को अनुचित लाभ देने के लिए अपने करीबी लोगों के माध्यम से रिश्वत मांगने और एवं स्वीकार करने का आदी था।
सूत्रों ने बताया कि मुख्य इंजीनियर पर आरोप है कि उसने सामान को उतारने के दौरान कटक में एक निजी कम्पनी पारादीप बंदरगाह में संचालित बेल्ट को क्षतिग्रस्त कर दिया।


कन्वेयर बेल्ट की मरम्मत या बदलने की लागत बहुत अधिक थी तो मुख्य इंजीनियर ने निजी कंपनी, बिचौलिए और निदेशक के साथ साजिश कर पोर्ट ट्रस्ट की कीमत पर इसकी मरम्मत कराई, जिससे निजी कंपनी को भारी आर्थिक लाभ हुआ।


सीबीआई ने तलाशी के दौरान मुख्य इंजीनियर के आवास से लगभग 20.25 लाख रुपये , आभूषण, निवेश से संबंधित दस्तावेज और अन्य आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए गए। आरोपी के परिसरों में पारादीप, कटक, जगतसिंहपुर और भुवनेश्वर सहित 15 स्थानों पर भी तलाशी ली गई।


सीबीआई सूत्रों ने कहा कि निजी कंपनी के निदेशक के परिसर से लगभग 41 लाख रुपये बरामद किए गए। गिरफ्तार आरोपी को शुक्रवार को न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा।


सीबीआई के छापा मारने के एक दिन बाद प्रसिद्ध उद्योगपति और ओडिशा स्टीवडोर्स लिमिटेड (ओएसएल) की प्रबंध निदेशक महिमा मिश्रा शुक्रवार को यहां सीबीआई कार्यालय के सामने पूछताछ के लिए पेश हुईं।


सीबीआई ने गुरुवार को कटक में मिश्रा के आवास और भुवनेश्वर और पारादीप कार्यालयों में छापा मारा था। सूत्रों ने कहा कि सीबीआई की टीम ने छापेमारी के दौरान पारादीप पोर्ट ट्रस्ट के मुख्य इंजीनियर सरोज कुमार दास और एक निजी ठेकेदार सुमंत राउत से रिश्वत के मामले में पूछताछ की।


महिमा मिश्रा के बेटे चंदन मिश्रा को भी सीबीआई ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया और रिश्वत मामले में पूछताछ के लिए सीबीआई कार्यालय ले गयी।


सूत्रों ने कहा कि ओएसएल के दो वरिष्ठ अधिकारियों को भी गिरफ्तार किया गया है जिनसे सीबीआई ने रिश्वत के मामले में पूछताछ की है।

यह भी पढ़ें:- बजट में आए Oneplus के महंगे फोन: Amazon पर ₹15000 तक छूट और ₹18150 तक एक्सचेंज बोनस