किसानों को जेल में डालना चाहता था केंद्र, लेकिन मैंने होने नहीं दिया: केजरीवाल

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी हैं। जिसे अब देश के लगभग सभी मुख्य विपक्षी दलों का समर्थन प्राप्त हो रहा हैं। इसी कड़ी में आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल किसानों से मिलने सिंघु बॉर्डर पहुंचे। साथ ही किसानों के लिए सरकार की तरफ से की गई व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे हैं। बता दे कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली सीमाओं पर किसानों के प्रदर्शन का आज 12वां दिन है।

सिंघु बॉर्डर पर पहुंचे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा केंद्र सरकार किसानों को जेल में डालना चाहती थी, लेकिन उन्होंने केंद्र की 9 स्टेडियम को जेल बनाने की इच्छा को नकार दिया। केजरीवाल ने कहा केंद्र की तरफ से उन्हें कई फोन आये और दबाब डाला गया। लेकिन उन्होंने अपने जमीर की सुनी। केजरीवाल ने कहा उन्हें लगता है कि उनके केंद्र की इच्छा को नकारने के फैसले से भी किसान आंदोलन को मजबूती मिली हैं।

केजरीवाल ने किसानों से कहा कि हम शुरू से किसान आंदोलन के साथ खड़े रहे हैं और किसानों की मांग से से सहमत भी है। नहीं लगता है सभी मांगें जायज़ हैं और सरकार को माननी चाहिए। उन्होंने कहा ‘मैं आज यहां मुख्यमंत्री बनकर नहीं आया। मैं यहां उनका सेवक बनकर आया हूं। मैंने यहां की व्यवस्था भी देखी है। कुछ पानी की दिक्कत है, उसे ठीक कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़े: मूंगफली खाने से होने वाले इन फायदों से अबतक अनजान होंगे आप
यह भी पढ़े: नहीं जानते होंगे आप, जायफल खाने के ये फायदे