सेहत के लिए बेहद हानिकारक होते हैं, केमिकल युक्त फल

आमतौर पर लोग हेल्दी रहने के लिए फलों का सेवन करते हैं। लेकिन जिन फलों को आप हेल्दी समझकर खा रहे हैं, वहीं आपकी सेहत को नुकसान पहंुचाए तो। जी हां, आजकल फलों में कई तरह के केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है और अगर लोग इन केमिकल युक्त फलों का सेवन करते हैं तो इससे उनकी सेहत को लाभ होने के स्थान पर नुकसान ही होता है। ऐसे में जरूरी है कि आप केमिकल युक्त फलों की पहचान करें। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-

जो फल केमिकल के जरिए पकाए जाते हैं, उनमें धब्बे बहुत होते हैं। साथ ये नेचुरल से ज्यादा चमकदार नजर आते हैं।

अक्सर आम, केला और पपीते को कार्बाइड से पकाया जाता है। ऐसे फल एक या दो दिन से ज्यादा नहीं चल सकता। ये काला पड़ने लगता है या सड़ जाता है।

नेचुरल तरीके से जो केला पका होगा वह धब्बेदार होगा, उसका डंठल काला होगा। जबकि केमिकल वाला केला पीला, चमकदार और दाग रहित होगा। साथ ही उसकी डंठल भी कई बार हरी नजर आती है।

अक्सर लोग सेब को उसका रंग देखकर खरीदते हैं, लेकिन ऐसा न करें। जरूरत से ज्यादा चमकदार सेब मोम लगा हो सकता है। इसे नाखून से खरोच कर देंखें। अगर नाखून में कुछ मोम सा नजर आ रहा तो इसे न लें।

अगर आप फल की सही तरह से पहचान न कर पा रहे हों तो खाने से पहले फल-सब्जियों को सिरके के पानी में डुबो कर रखें और फिर साफ पानी से अच्छे से धोएं। इससे फलों में मौजूद केमिकल दूर हट जाएंगे।

Loading...