Home / छत्तीसगढ़ / सही मायने में ‘चाय वाली चाची’ कह सकती हैं”हैलो फ्रेंड्स चाय पीलो”

सही मायने में ‘चाय वाली चाची’ कह सकती हैं”हैलो फ्रेंड्स चाय पीलो”

हालहि में सोशल मीडिया पर एक दादी का वीडियो वायरल हुआ था जो केवल रेत खाकर जिंदा रहती थी. उन्होंने 65 साल से खाना छोड़कर केवल रेत के सहारे जिंदा रह रही है. वहीं छत्तीसगढ़ में भी एक ऐसी महिला की कहानी सामने आई है जो 33 सालों से केवल चाय पीकर ही जिंदा है और पूरी तरह से स्वस्थ है.

Loading...

पिछले 33 सालों से चाय पीकर जिंदा है ये महिला

दरअसल छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में बैकुन्ठपुर विकासखण्ड के बरदिया गांव में रहने वाली 44 साल की पल्ली देवी पिछले 33 सालों से चाय पीकर ही जिंदा हैं. उनके परिवार वालों ने बताया कि जब वह केवल 6ठी कक्षा में पढ़ती थी तब से ही उसने भोजन को छोड़ दिया था. पल्ली देवी दिल ढलने के बाद चाय पीती हैं उनकी शादी 1985 में कोरिया जिले के तरगवा गांव में राम रतन के साथ हुई थी लेकिन एक बार मायके आने के बाद वापस ससुराल नहीं गईं.

डॉक्टर भी हैं हैरान

इस बारे में बात करते हुए पिल्ली देवी ने बताया की भूख नहीं लगती है दिन ढलने के बाद लाल चाय पीती हूं.जब डॉक्टर ने इस महिला की इस अनूठी शारीरिक विशेषता को देखा तो वो भी हैरान हो गए. सभी लोग इस चाय वाली को चाची के नाम से जानते हैं.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *