अस्पताल से चोरी गया बालक बरामद, आरोपी दंपति गिरफ्तार

मध्यप्रदेश के खरगोन स्थित एक निजी अस्पताल से चोरी किए गए एक वर्षीय बालक को बरामद कर बच्चा चोर गिरोह में शामिल दंपति को गिरफ्तार कर लिया गया है।


पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह यादव ने आज बताया कि खरगोन स्थित शारदा अस्पताल से कल चुराए गए एक वर्षीय बालक को इंदौर के समीप पीथमपुर से बरामद कर आशा मसानी और उसके पति अतुल मसानी को अपहरण तथा मानव तस्करी की धाराओं के अंतर्गत प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है।


उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र के जलगांव जिले के रावेर निवासी शेख कासम और उनकी पत्नी अपने एक वर्षीय नाती लेकर खरगोन के निजी अस्पताल में प्रसूति के लिए भर्ती अपनी पुत्री सिमरन की तीमारदारी हेतु आए थे। इसी दौरान बालक पर निगाह रख रही आरोपी आशा ने अस्पताल परिसर में ही उसे खिलाना आरंभ किया। उनके लापरवाह हो जाने के बाद आशा ने बालक को अपने पास बुलाया और दंपति को चकमा देकर रफूचक्कर हो गयी। अस्पताल के बाहर उसका पति अतुल मसानी स्कूटर लेकर खड़ा था, जिसकी सहायता से वह कसरावद गए और उसके बाद बस से कुछ दूर जाने के बाद फिर से स्कूटर पर बालक को लेकर पीथमपुर पहुंच गए।


घटना की सूचना मिलते पुलिस दल सक्रिय हो गया और उसने रास्तों के सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपियों का पीछा करना आरंभ कर दिया।


खरगोन के अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) राकेश मोहन शुक्ला ने बताया कि दरअसल दंपत्ति बच्चा चोर गिरोह के रूप में काम करते हैं। उन्होंने 4 दिन पूर्व खरगोन जिले के ऊन थाना क्षेत्र के तलकवाड़ा में भी एक बालक को चुराया था, लेकिन पकड़े गए थे। न्यायालय से जमानत मिलने के बाद उन्होंने यह दूसरी घटना कारित कर दी। पुलिस को जानकारी थी कि दंपति को जमानत मिल गई है और भी पीथमपुर की ओर निकले थे, इसलिए आशा और अतुल पर ध्यान केंद्रित कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।


उन्होंने बताया कि अतुल पीथमपुर में एक ट्रक निर्माता कंपनी में काम करता है। जबकि आशा का मायका तलकवाड़ा में है।

यह भी पढ़ें:- वजन कंट्रोल करने के लिए आप भी तो ज़्यादा गर्म पानी नहीं पीते, हो जाइये सावधान