चीन ने मानी अपने सैनिकों के मरने की बात, भारतीय सेना से की शांति से मामला सुलझाने की अपील

लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन की सेना के बीच सोमवार रात हुई झड़प में एक अफसर समेत तीन भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। वही सेना की तरफ से यह बात स्पष्ट की गई थी कि इस झड़प में न सिर्फ भारत की सेना को बल्कि चीनी सेना को भी घात पहुंचा है। सेना ने बताया था कि झड़प में चीनी सेना के पांच जवान भी मारे गए है। लेकिन काफी समय तक चुप्पी साधने के बाद अब चीन ने स्वीकार कर लिया है कि उसके सैनिक भी मारे गए है।

चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के हवाले से चीन की सेना का बयान प्रकाशित हुआ है। जिसमें कहा गया है कि भारतीय सेना के साथ हुई झड़प में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के भी सैनिक हताहत हुए है। हालांकि, चीन ने मृतक सैनिकों की संख्या बताने में कोई रूचि नहीं दिखाई। मंगलवार को एक चीनी सैन्य प्रवक्ता ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चल रहे ताजा घटनाक्रम के बाद भारतीय सैनिकों से कार्यवाही रोकने के अपील की है।

चीनी प्रवक्ता का कहना है कि भारतीय सैनिक सीमा पर चीनी सैनिकों के खिलाफ सभी भड़काऊ कार्रवाइयों को तुरंत रोके और बातचीत के माध्यम से विवादों को सुलझाने के सही रास्ते पर वापस आए। बता दे सोमवार रात चीन के सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के दौरान भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो सैनिक शहीद हो गए। यह पिछले 45 सालों में पहली बार हुआ था, जब लद्दाख सीमा पर दोनों देशों के किसी जवान की शहादत होने की खबर आई है।

यह भी पढ़े: अमेरिका ने भारत को डोनेट किये 100 वेंटिलेटर्स, डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले महीने किया था एलान
यह भी पढ़े: भारत-चीन सीमा तनाव: रक्षामंत्री ने की CDS चीफ और तीनों सेना प्रमुखों के साथ बैठक