पहले दुश्मनी पाली और अब अमेरिका से कारोबार शरू करने को छटपटाने लगा चीन

कोरोना की उत्पत्ति की वजह बना चीन करीब एक साल से लगभग सभी बड़े देशों के निशाने पर हैं। चीन के मनमाने रवैये और हेकड़ी के चलते अमेरिका, भारत समेत कई देशों ने उसके साथ व्यापार समझौते काफी जटिल बना दिए थे और कई तरह के प्रतिबन्ध भी लागू कर दिए। एक समय तक तो ठीक लेकिन अमेरिका के साथ अपने व्यापार और लोगों के बीच संपर्क जारी रखने के लिए चीन की छटपटाहट सामने आने लगी हैं। इसी बीच उसकी प्रतिक्रिया आई हैं।

हाल ही में चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने सोमवार को अमेरिका से कारोबार और लोगों के बीच संपर्क पर रोक हटाने का आह्वान किया हैं। दरअसल, चीन अमेरिका के इस प्रतिबंध को ताइवान, हांगकांग, शिनजियांग और तिब्बत के इलाकों में एक गैरजरूरी दखल मानता हैं।

बता दे अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2017 में चीन से आयातित वस्तुओं पर कर बढ़ा दिया था या चीनी प्रौद्योगिकी कंपनियों एवं शैक्षणिक कार्यक्रमों के आदान-प्रदान पर प्रतिबंध लगा दिया था। साथ ही ट्रंप ने ताइवान के साथ सैन्य एवं राजनयिक संबंधों को भी बढ़ावा देकर चीन की हेकड़ी निकालने का प्रयास किया था। ट्रंप ने शिनजियांग में मुस्लिम अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचार और हांगकांग में आजादी दबाने का आरोप चीन पर लगा प्रतिबन्ध लगाए थे।

पत्रकारों से बातचीत में वांग ने उम्मीद व्यक्त करते हुए कहा कि अमेरिका का नया प्रशासन अपनी विदेश नीति की समीक्षा और आकलन कर समय के साथ तालमेल बनाएंगे, दुनिया के रुख को देखेंगे, पक्षपातपूर्ण रवैया को छोड़ेंगे, गैर जरूरी संदेह नहीं करेंगे और चीन-अमेरिका संबंधों को बेहतर करने का प्रयास करेंगे। वहीं दूसरी तरफ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भी चीन एक साथ फिर से रिश्ते सुधारने और अमेरिकी कूटनीति में नरमी लाने पर जोर दिया है।

यह भी पढ़े: नहीं मानें WhatsApp के नए नियम तो Delete हो जाएगा Account, ध्यान से पढ़े FAQ
यह भी पढ़े: PSL: राशिद खान के शॉट पर फिदा हुई सारा टेलर, ट्वीट कर जताई मन की इच्छा