सहमति का पालन नहीं कर रहा चीन, फिंगर-5 से फिंगर-8 तक अभी भी डटी है चीनी सेना

भारत और चीन के बीच सैन्य स्तर पर चौथे दौर की वार्ता हुए एक सप्ताह हो चुका है। इसके बाद भी पैंगोंग लेक इलाके में दोनों देशों की सेनाओं के बीच टकराव की स्तिथि बनी हुई है। चीनी सेना फिंगर-5 इलाके में डटी हुई है और पिछले छह दिनों से उसके पीछे हटने के कोई भी संकेत नहीं मिले है। सूत्रों से के मुताबिक पैंगोंग इलाके में स्थिति जस की तस बनी हुई है। फिंगर-4 इलाके से चीन ने सेना हटा ली है लेकिन फिंगर-5 से लेकर फिंगर-8 तक स्तिथि वही है।

गौरतलब है कि 14 जुलाई को सैन्य कमांडरों की मैराथन बैठक हुई थी। जिसमें पैंगोंग इलाके के गतिरोध पर विशेष तौर पर चर्चा की गई थी। इसमें दोनों सेनाओं के बीच टकराव कम करने और पीछे हटने पर सहमति बनी थी। लेकिन, इस सहमति का पैंगोंग इलाके में चीनी सेना पालन करती दिखाई नहीं दे रही है। गलवान घाटी, गोगरा, हाट स्प्रिंग्स और फिंगर-4 से चीनी सेना पीछे हटी है लेकिन उसका पूरे फिंगर इलाके से पीछे हटना काफी अहम है।

डेपसांग में भी चीन के अधिकतर सैनिक तैनात है जो चिंता वाली बात है। भारत के सुरक्षाबलों की चिंता फिंगर इलाके को लेकर है जहां वह भारतीय दावे वाले क्षेत्रों में चीनी सेना डटी हुई है। सीमा विषय पर चीन का रुख इस वक्त ठंडा है जिसे देखते हुए सैन्य या कूटनीतिक स्तर पर कुछ बैठके होने की संभावना है।

यह भी पढ़े: नेपोटिज्म की बहस में कूदे ‘हीरो नंबर 1’ गोविंदा, स्ट्रगल के दिनों को किया याद
यह भी पढ़े: देश में पिछले 24 घंटों में देश में रिकॉर्ड 40 हजार 425 कोरोना केस और 681 मौतें