China-Taiwan का झगड़ा और सेमीकंडक्टर का बाजार, आखिर इतना परेशान क्यों है अमेरिका?

अमेरिकी संसद के निचले सदन की प्रतिनिधि नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा ने चीन और अमेरिका को आमने-सामने खड़ा कर दिया है. कहा जा रहा है कि ताइवान के सेमीकंडक्टर उद्योग की वजह से ही अमेरिकी के लिए यह छोटा सा ‘देश’ अहम हो गया है. यही वजह रही कि चीन की कई धमकियों के बावजूद अमेरिकी की नैंसी पेलोसी ने ताइवान की यात्रा की. अमेरिकी प्रतिनिधियों की इस आधिकारिक यात्रा से तिलमिलाए चीन ने अब ताइवान के आसपास ‘सैन्य अभ्यास’ शुरू कर दिया है. चीन की मिसाइलें जापान के आसपास के समुद्र में भी गिरी हैं.

नैंसी पेलोसी ने अपनी ताइवान यात्रा के दौरान ताइवान सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग कॉरपोरेशन (टीएसएमसी) के अध्यक्ष मार्क लुई के साथ मुलाकात की. टीएसएमसी- दुनिया की सबसे बड़ी चिप निर्माता कंपनी है. अमेरिका जैसे देश भी इसी कंपनी पर काफी हद तक निर्भर हैं. इसी वजह से अमेरिका में सेमीकंडक्टर का आधार स्थापित करने और चीनी कंपनियों के लिए एडवांस चिप्स बनाने से रोकने के लिए अमेरिका कई कोशिशें कर रहा है.

ताइवान की आजादी अमेरिकी के लिए ज़रूरी
ताइवान के लिए अमेरिकी समर्थन ऐतिहासिक रूप से बीजिंग में साम्यवादी शासन के वाशिंगटन के विरोध और चीन द्वारा ताइवान के शोषण के प्रतिरोध पर आधारित रहा है. हाल के वर्षों में, सेमीकंडक्टर के बाजार पर ताइवान के प्रभुत्व के कारण उसकी स्वायत्तता अमेरिका के लिए काफी अहम हो गई है. सेमीकंडक्टर्स – जिन्हें कंप्यूटर चिप्स या सिर्फ चिप्स के रूप में भी जाना जाता है – उन सभी नेटवर्क उपकरणों के अभिन्न अंग हैं जो हमारे जीवन का हिस्सा बन गए हैं. रक्षा क्षेत्र में भी इसका एडवांस लेवल पर भी इस्तेमाल किया जाता है.

अमेरिकी अधिकारियों ने ट्रंप प्रशासन के दौरान महसूस करना शुरू कर दिया था कि अमेरिकी सेमीकंडक्टर डिजाइन कंपनियां, जैसे कि इंटेल, अपने उत्पादों के निर्माण के लिए एशियाई-आधारित आपूर्ति श्रृंखलाओं पर बहुत अधिक निर्भर थीं. विशेष रूप से, सेमीकंडक्टर निर्माण की दुनिया में ताइवान की स्थिति कुछ हद तक ओपेक में सऊदी अरब की स्थिति की तरह है. टीएसएमसी की वैश्विक फाउंड्री बाजार (अन्य देशों में डिज़ाइन किए गए चिप्स बनाने के लिए अनुबंधित कारखाने) में 53% बाजार हिस्सेदारी है। अन्य ताइवान स्थित निर्माता बाजार के 10% हिस्से पर अपना दावा रखते हैं.

तथ्य यह है कि केवल टीएसएमसी और सैमसंग (दक्षिण कोरिया) सबसे उन्नत सेमीकंडक्टर (पांच नैनोमीटर के रूप में जाना जाता है) बना सकते हैं जो वर्तमान और भविष्य की राष्ट्रीय सुरक्षा और महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की जरूरतों को पूरा करने की क्षमता को जोखिम में डालते हैं. इसका मतलब है कि ताइवान के साथ फिर से जुड़ने का चीन का दीर्घकालिक लक्ष्य अब अमेरिकी हितों के लिए अधिक खतरा है. 1971 के शंघाई कम्यूनिक और 1979 के ताइवान संबंध अधिनियम में, अमेरिका ने माना कि मुख्य भूमि चीन और ताइवान दोनों में लोगों का मानना ​​​​था कि यह “वन चीन” था और वे दोनों इसका हिस्सा थे लेकिन अमेरिका के लिए यह अकल्पनीय है कि टीएसएमसी एक दिन बीजिंग द्वारा नियंत्रित क्षेत्र में हो सकता है.