अमेरिका-ताइवान दोस्ती से चिढ़ा चीन, ताइवान पर कब्जा करने की दी धमकी

अमेरिका और ताइवान की दोस्ती से चिढ़े बैठे चीन ने ताइवान पर कब्जा कर लेने की धमकी दी है। दरअसल, चीन अमेरिकी विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी कीथ क्रैच के ताइवान दौरे से बौखलाया हुआ है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने शुक्रवार को कहा था कि लड़ाकू विमानों का ड्रिल चेतावनी देने के लिए नहीं बल्कि ताइवान पर कब्जे का रिहर्सल था। बता दे चीन ने शुक्रवार को ताइवानी क्षेत्र में लड़ाकू जेट समेत 18 विमान उड़ाए थे।

कम्युनिस्ट सरकार के मुखपत्र में भी चीन के जरिये कहा गया था कि ‘ताइवान की स्वतंत्रता खत्म होने वाली है।’ चेन ने कहा है कि वह युद्द से पीछे नहीं हटता और इसके लिए उसने भारत सीमा का भी जिक्र किया है। चीन का कहना है कि यदि अमेरिका, ताइवान से दूरी नहीं बनाता है तो युद्ध होना तय है।

ग्लोबल टाइम्स के हवाले से लिखा गया कि चीन का विरोध अमेरिका और ताइवान के बीच मिलीभगत को लेकर है। चीन का गुस्सा उस वक्त तेज हो गया, जब ताइवान और अमेरिका ने क्रैच के विमान में सवार होने तक दौरे को गोपनीय बनाये रखा। ऐसे में जब इसके बारे में पता चला तो पीएलए ने युद्धाभ्यास का फैसला आखिरी मिनटों में लिया। यह कर पीएलए ने बता दिया है कि बेहद कम समय में भी चीन बड़ी कार्रवाई को अंजाम दे सकता है।

चीन के सरकारी मीडिया का कहना है कि ताइवान और अमेरिका स्थिति का गलत आकलन ना करें और यह नहीं माने कि युद्धाभ्यास सिर्फ दिखवा है। यदि अमेरिका और ताइवान उकसाते रहे तो युद्ध होना तय है। चीनी मीडिया ने कहा कि जिसने चीन के दृढ़ संकल्प को कम आंका, उसने कीमत चुकाई है। वह भारत-चीन सीमा पर युद्ध से नहीं डरता। ताइवान के पास आधुनिक सैन्य युद्ध का कोई विकल्प नहीं। ताइवान की स्वतंत्रता खत्म होगी।

यह भी पढ़े: जयपुर में एक परिवार के चार लोगों ने लगाई फांसी, कर्ज के बोझ से परेशान थे सब
यह भी पढ़े: J&K: राजोरी में सुरक्षाबलों ने ढ़ेर किये तीन आतंकी, गोला-बारूद और नकदी बरामद