चीन को भारी पड़ेगी गुस्ताखी, भारत ने तैनात किये ब्रह्मोस, आकाश और निर्भय

भारत-चीन के बीच लद्दाख में महीनों से भारी तनाव की स्तिथि बनी हुई है। ऐसे में दोनों देशों की सेनाएं युद्ध की संभावनाओं को देखते हुए लगातार अपने सैन्य उपकरणों में इजाफा कर रही है और उन्हें विवादित क्षेत्र में ला रही है, ताकि किसी अप्रिय स्तिथि में विरोधियों से निपटा जा सके।

इसी बीच भारतीय सेना ने 500 किलोमीटर रेंज वाली ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल, सतह से हवा में मार करने वाली आकाश मिसाइल और 800 किलोमीटर की रेंज वाली निर्भय मिसाइल को भी तैयार कर लिया है। इन सभी को भारतीय सेना ने लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तैनात कर दिया हैं।

इससे पहले पीएलए के पश्चिमी थिएटर कमांड ने लद्दाख गतिरोध शुरू होने के बाद तिब्बत और शिनजियांग में 2,000 किमी रेंज वाली सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल और हथियारों को तैनात किया था। जिसके जवाब में अब भारतीय सेना ने ब्रह्मोस, निर्भय और आकाश को तैनात किया है।

ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल की शक्तियां

हवा से हवा और हवा से सतह तक मार करने की क्षमता।

300 किलोग्राम के वॉरहेड वाली क्रूज मिसाइल के जरिए तिब्बत और शिनजियांग के एयरस्ट्रिप पर नजर रखने में सक्षम।

भारत के द्वीप क्षेत्रों में कार निकोबार एयर बेस का उपयोग करके हिंद महासागर में चोक पॉइंट बनाने के लिए उपयोग।

निर्भय सबसोनिक मिसाइल की शक्तियां

1,000 किमी की पहुंच वाली यह मिसाइल समुद्री स्किमिंग और लोइटरिंग दोनों की क्षमता रखती है।

यह मिसाइल जमीन से 100 मीटर से चार किमी के बीच उड़ान भरने में सक्षम है और टारगेट तय कर लेती है।

निर्भय मिसाइल सतह से सतह मार करने वाली मिसाइल है।

यह भी पढ़े: पंजाब में चल रहे किसान आंदोलन में शामिल होंगे राहुल गांधी, जल्द होगा एलान
यह भी पढ़े: सुशांत राजपूत ने आत्महत्या की या हत्या हुई? सामने आया CBI का जवाब