गलवान और चुसूल में 100 गज पीछे हटी चीनी सेना, LAC पर एक महीने से चल रहा है तनाव

लद्दाख में भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर बातचीत जारी है। इसी बीच गलवान और चुसूल में चीनी सेना के पहले की जगह से 100 गज (करीब 91 मीटर) से अधिक पीछे हटने की खबर सामने आ रही है। वही दूसरे अन्य स्थानों पर चीनी सेना द्वारा किसी और आक्रामक गतिविधि की खबर भी नहीं है। बताया जा रहा है कि 6 जून को दोनों पक्षों के लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के अधिकारियों के बीच होने जा रही पहली वार्ता काफी महत्वपूर्ण है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बातचीत में भारत और चीन पूर्वी लद्दाख के पास के क्षेत्र में चीनी वायुसेना द्वारा उड़ान भरने वाले लड़ाकू विमानों का मुद्दा भी उठा रहे हैं। वही एक स्थान पर पीएलए सैनिक अपने पहले की स्थिति से 100 गज पीछे हो गए है। बता दे पूर्वी लद्दाख सेक्टर में चीनी और भारतीय सेना बराबर मात्रा में है और दोनों सेनाएं तोपखाने के साथ सीमा पर हर परिस्तिथि के लिए तैयार है। ज्ञात करा दे 1967 के बाद से इस क्षेत्र में गोलीबारी नहीं हुई है।

गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच तनाव भारत द्वारा पूर्वी लद्दाख के पांगगोंग त्सो (झील) इलाके में एक खास सड़क और गलवान घाटी में डारबुक-शायोक-दौलत बेग ओल्डी सड़क को जोड़ने वाली एक सड़क को बनाने की वजह से चीन के विरोध के बाद हुआ था। पांच मई को तो दोनों सेनाएं लोहे की छड़ों और लाठी-डंडे लेकर आपस में भीड़ गई थी। जिसमें दोनों देशों के करीब 150 सैनिक आपस में भिड़ गए और कम से कम 10 सैनिक घायल हुए थे।

यह भी पढ़े: किसी भी समय भारत में होगा भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या, लंदन में सभी औपचारिकताएं पूरी
यह भी पढ़े: बौद्ध धरोहरों की तोड़फोड़ पर भारत ने पाक को चेताया, कहा-पीओके से हटाए अपना अवैध कब्जा