कांग्रेस ने पार्टी से निलंबित पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद को फिर से किया पार्टी मे स्वागत

बिहार विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही प्रदेश में राजनीतिक सरगर्मी बहुत तेज हो गयी है। कांग्रेस ने पिछले साल निलंबित किए अपने नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद का निलंबन वापस ले लिया है। गौरतलब हो कि पिछले साल लोकसभा चुनाव में शकील अहमद ने बिहार में महागठबंधन के उम्मीदवार के खिलाफ मधुबनी सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था। इसी वजह से कांग्रेस ने उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया था।

पिछले लोकसभा चुनाव मे शकील अहमद के अलावा पार्टी ने बिहार के बेनीपट्टी से विधायक भावना झा को भी निलंबित किया गया था। भावना को पार्टी विरोधी गतिविधियों मे शामिल होने के आरोप लगने के कारण निलंबित किया गया था। लेकिन पिछले सप्ताह कांग्रेस आलाकमान ने उनका निलंबन वापस ले लिया था। अब पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद के निलंबन को आज वापस ले लिया।

शकील अहमद बिहार के बड़े मुस्लिम चेहरों में से एक हैं। इसलिए कांग्रेस नहीं चाहती कि मुस्लिम वोटर उनके पार्टी से दूर न हो जाए।गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में शकील अहमद मधुबनी लोकसभा सीट से कांग्रेस का टिकट चाहते थे, लेकिन महागठबंधन में जब सीटों का बंटवारा हुआ तो ये सीट मुकेश सहनी को मिल गई। टिकट नहीं मिलने की वजह से शकील अहमद नाराज हो गए और इसके बाद उन्होंने अपना नामांकन पत्र दो सेटों में एक कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार के रूप में और दूसरा निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर दाखिल कर दिया था। जिससे पार्टी आलाकमान ने उनको पार्टी से निलंबित कर दिया था।