पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने मोदी सरकार को घेरा, कहा- गंजे को कंघी बेचने की हो रही कोशिश

कांग्रेस ने केंद्र सरकार की तरफ से सुक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) क्षेत्र के लिए सरकार की तरफ से घोषित पैकेज को लेकर निशाना साधा है। पार्टी का कहना है कि केंद्र सरकार के 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की पोल खुल चुकी है। यह योजना बिल्कुल ऐसी है जैसे कोरोना महामारी में गंजे को कंघी बेचना। वही दूसरी तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान पर निशाना साधा है।

पी. चिदंबरम ने कहा कि एक तरफ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एमएसएमई का सरकारी उपक्रमों एवं सरकारी विभागों पर पांच लाख करोड़ रुपए बकाया है। वही दूसरी तरफ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इन्ही एमएसएमई इकाइयों को तीन लाख करोड़ रुपए का कर्ज देने की बात कर रही है। नितिन गडकरी और निर्मला सीतारमण के बयानो में अंतर का हवाला देते हुए पी. चिदंबरम ने सवाल किया कि ‘असल में ऋणदाता कौन है और उधारकर्ता कौन हैं?’

वही कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने केंद्र सरकार की 20 लाख करोड़ रुपये की योजना को जुमला करार दिया। उन्होंने कहा कि एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयानों में अंतर सरकार की योजना की पोल खोलता है। यह सरकार का गंजे को कंघी बेचना जैसा है।

यह भी पढ़े: जल्द शुरू हो सकती है टीम इंडिया की आउटडोर ट्रेनिंग, लेकिन विराट-रोहित की वापसी मुश्किल
यह भी पढ़े: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने घरेलू रक्षा और एयरोस्पेस के लिए दी 400 करोड़ की योजना को मंजूरी

Loading...