Breaking News
Home / ट्रेंडिंग / कांग्रेस इस पार्टी के साथ मिलकर लड़ेगी दिल्ली विधानसभा चुनाव

कांग्रेस इस पार्टी के साथ मिलकर लड़ेगी दिल्ली विधानसभा चुनाव

दिल्ली की सत्ता को लेकर अब राजनितिक पार्टियों में गठबंधन बनाने की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। इससे पहले दिल्ली की सियासत में ऐसा उल्टफेर कम देखने को मिलता है। दिल्ली की गद्दी पर पहले हमेशा एक ही दल की सत्ता काबिज होती थी। लेकिन अब समय इतना बदल गया है कि राष्ट्रीय पार्टीयों को क्षेत्रीय पार्टियों का सहयोग लेना पड़ रहा है। राष्ट्रीय जनता दल ने इस बार कांग्रेस का दामन थाम लिया है।और दिल्ली में इस बार चार सीटों पर जनता दल चुनाव लडेगी। तो दूसरी तरफ भाजपा की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने भाजपा का दामन छोड दिया है।बीजेपी ने इस बार लोक जनशक्ति पार्टी और जनता दल यूनाडेट का दामन थाम लिया है। इस बार दिल्ली के चुनाव परिणाम सियासी चेहरा भी बदल सकते है।

दिल्ली की सत्ता पर देश के लोगों की नजर रहती है, मुगलकाल से प्रसिद्ध दिल्ली की सत्ता को पाने के लिए न जानें कितने लोगों ने अपनी जान तक बाजी लगा दी। राजनितिक विश्लेषकों का मानना है कि दिल्ली का चुनाव केवल दिल्ली का ही नही होता, बल्कि पूरे देश की निगाहें दिल्ली के चुनाव पर रहती है।

Loading...

इस बार के दिल्ली के चुनाव में जहां अरविंद केजरीवाल अपनी सत्ता को बचाने के लिए लोगों को फ्री की सुविधाएं दे रहा है तो वही कांग्रेस पार्टी दोबारा दिल्ली की सत्ता में लौटने के लिए प्रयत्न कर रही है। भाजपा अपने लंबे समय के अकाल को दूर करने के लिए चुनाव में जी-जान से जुटी हुई है। दिल्ली में 2015 के चुनाव में जहां 70 में 67 सीटों पर आम आदमी का कब्जा था तो भाजपा को तीन सीटों से ही संतोष करना पड़ा। वही दूसरी तरफ लगातार दो प्लान दिल्ली पर काबिज रहने वाली कांग्रेस पार्टी को एक भी सीट नही मिली थी। राजनितिक के जानकार बता रहे है कि अगर इस बार के दिल्ली के चुनाव में कांग्रेस ज्यादा सीटें लेकर आती है तो भाजपा को उसका पूरा फायदा मिलेगा और आम आदमी पार्टी की सीटों में कमी  आएगी।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *