24 घंटे में हो जाएगा राम मंदिर के पिलर का निर्माण, शुरू हुआ खुदाई का काम

राम जन्मभूमि मंदिर टेस्ट पाइलिंग का काम शुरू कर दिया गया है। जिसके तहत मंदिर के लिए एक पिलर का निर्माण किया जाएगा। यह निर्माण 24 घंटे में हो जाएगा। दरअसल, एक पिलर का निर्माण करने के बाद उसकी गुणवक्ता और भार क्षमता का परीक्षण किया जाएगा, जिसमें एक माह का समय लगेगा। यदि परीक्षण सफल रहा तो 1199 अन्य पिलर्स का काम 15 अक्टूबर के बाद शुरू होगा। बुनियाद की खुदाई का काम शुरू होने से पहले मशीनों की पूजा की गई।

बता दे राम मंदिर निर्माण के लिए 12 सौ खंभे तैयार किये जाएंगे। नींव की 1200 पायलिंग में पहले एक पाइल फाउंडेशन बनाकर 15 अक्तूबर तक टेस्टिंग का लक्ष्य है। रिंग मशीन के माध्यम से आज पहली खुदाई की गई है। 60 मीटर (200 फीट) गहराई तक राममंदिर का पायलिंग फाउंडेशन होगा। 1200 पाइलिंग सीमेंट, मोरंग और गिट्टी से तैयार होगी। इसमें स्टील का प्रयोग नहीं होगा और यह समुद्र या नदी में पुल के फाउंडेशन जैसा होगा।

रामजन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय का कहना है कि मंदिर परिसर की सुरक्षा सरकार के जिम्मे होगी। इस विश्वस्तरीय प्रोजेक्ट की संवेदन शीलता का देखते हुए किसी प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी को जिम्मेदारी नहीं सौंपी जा सकती है। राममंदिर की सुरक्षा सरकार देखेगी, ट्रस्ट का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा।

यह भी पढ़े: कर्नाटक के अरकेश्वर मंदिर में चोरों ने की तीन पुजारियों की हत्या, नकदी लेकर फरार
यह भी पढ़े: कोरोना संक्रमित हुए बॉलीवुड अभिनेता आफताब शिवदासानी, ट्वीट कर दी जानकारी