ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मददगार है कॉपर, जानें क्या हैं इसके और फायदे

भारत में हृदय रोग बहुत आम है जिसका एक कारण असंतुलित ब्लड प्रेशर को भी माना जाता है। ब्लड प्रेशर का हाई और लो होना, दोनों ही खतरनाक है। कई लोगों को लगता है कि बस हाई ब्लड प्रेशर ही नुकसानदेह इसलिए वो नमक का सेवन कम मात्रा में करते हैं जो शरीर के लिए बेहद हानिकारक साबित हो सकती है। सोडियम की कमी से गंभीर हृदय रोग के साथ ही मस्तिष्क के क्रिया-कलापों में भी परेशानी उत्पन्न हो सकती है। ऐसे में ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखना जरूरी है। कॉपर एक ऐसा धातु है जिसके कई स्वास्थ्य संबंधी गुण हैं। कॉपर यानि कि तांबे से बने बोतल और गिलास का इस्तेमाल लोग उसके औषधीय गुणों को ध्यान में रखकर ही करते हैं।

कार्डियोवास्कुलर हेल्थ के लिए है जरूरी: ‘मेडिकल न्यूज टुडे’ की एक खबर के अनुसार, शरीर में कॉपर की मात्रा कम होने से हाई कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ता है। इसके अलावा, हार्ट फेलियर की समस्या से पीड़ित लोगों के लिए भी कॉपर फायदेमंद हो सकता है। आयरन के साथ मिलकर ये धातु शरीर में रेड ब्लड सेल्स बनाने में भी मदद करता है जिससे हमारे ब्लड वेसल्स मजबूत रहते हैं। इसके अलावा, तांबे की अंगूठी या ब्रेसलेट पहनने से रक्तचाप को नियंत्रित करने में असरदार है।

गठिया से रखता है दूर: तांबे में गठिया से होने वाले दर्द को कम करने के भी गुण मौजूद हैं। इसके साथ ही ये मांसपेशियों के ऐंठन को ठीक करने में भी सक्षम है। हड्डियों को मजबूती प्रदान करने वाला कॉपर मांसपेशियों को भी स्ट्रॉन्ग बनाता है। इसके अलावा तांबे के उपयोग से जोडों के दर्द में भी आराम मिलता है। गठिया बीमारी से पीड़ित कई लोग दर्द को कम करने के लिए हाथों में तांबे का कड़ा (Bracelet) पहनते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि तांबा स्किन के माध्यम से शरीर में जाकर दर्द को कम करता है। इसके अलावा, कॉपर में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण रेडिकल्स को शरीर के अंदर गंदगी फैलाने से रोकते हैं जिसकी वजह से लोगों की त्वचा हेल्दी रहती है और वो त्वचा संबंधी समस्याओं से भी दूर रहते हैं।

ये हैं कॉपर के बेहतरीन स्रोत: कई लोग तांबे का स्वास्थ्य लाभ उठाने के लिए उससे बने बर्तनों का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, कुछ ऐसे भी हैं जो तांबे से बनी अंगूठी और ब्रेसलेट पहनना पसंद करते हैं। इसके अलावा भी कॉपर कई चीजों में पाया जाता है। ऐसे बहुत सारे खाद्य पदार्थ हैं जो तांबे के अच्छे स्रोत माने जाते हैं। आलू, बीन्स जैसी सब्जियों के अलावा साबूत अनाज में कॉपर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। वहीं, काली मिर्च (Black Pepper), कोकोआ और सूखे फल भी इस मिनरल के स्रोत हैं। इसके अलावा, काजू और बादाम जैसे ड्राईफ्रूट्स का भी इस्तेमाल आप कर सकते हैं।

यह भी पढ़े-

 

इम्युनिटी के लिए रामबाण है गिलोय लेकिन सही मात्रा भी जरूरी, जानिए हर दिन कब और कितने गिलोय का सेवन करना चाहिए