कोरोना संकट: समय से पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित की गई लोकसभा

कोरोना महामारी के चलते लोकसभा को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है। संसद का मानसून सत्र 1 अक्टूबर तक चलना था। लेकिन बढ़ते कोरोना संकट की वजह से इसमें कटौती कर दी गई है। इससे पहले संसद का मानसून स्तर 14 सितंबर से शुरू हुआ था। इस दौरान विवादित कृषि संबंधी तीन अध्यादेशों के साथ कई अहम बिलों को पारित करा लिया गया। जिन पर विपक्ष ने काफी विरोध भी किया, लेकिन सभी को दरकिनार कर दिया गया।

फिलहाल संसद का मानसून सत्र अपने निर्धारित समय से करीब आठ दिन पहले ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो चुका है। छोटी सी अवधि होने के बावजूद राज्यसभा में सत्र के दौरान 25 विधेयक पारित कर लिए गए। वही हंगामे की वजह से आठ विपक्षी सदस्यों को रविवार को निलंबित कर दिया गया।

सभापति एम वेंकैया नायडू ने सत्र को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने का एलान किया। लेकिन इससे पहले अपने पारंपरिक संबोधन में कहा कि यह सत्र कुछ मामलों में ऐतिहासिक रहा क्योंकि इस दौरान उच्च सदन के सदस्यों को बैठने की नई व्यवस्था के तहत पांच अन्य स्थानों पर बैठाया गया। उन्होंने कहा कि पिछले चार सत्रों के दौरान उच्च सदन में कामकाज का कुल प्रतिशत 96.13 फीसदी रहा है।

यह भी पढ़े: एक्ट्रेस श्वेता तिवारी कोरोना पॉजिटिव, 1 अक्टूबर तक खुद को घर में किया क्वारंटाइन
यह भी पढ़े: JDU और LJP में तेज हुई बयानबाजी, एक-दूसरे को अकेले चुनाव लड़ने की दी चुनौती