कोरोना ने बढ़ाया नेपाल का संकट, कहा-अधिक मरीजों को नहीं दे सकते हैं इलाज

चीन से निकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही का माहौल बना रखा है। अमेरिका, भारत और रूस में भले ही दुनिया के सबसे ज्यादा कोरोना मरीज सामने आ रहे है। लेकिन नेपाल जैसे छोटे देश को भी इस वायरस ने गंभीर संकट में डाल दिया हैं। दरअसल, नेपाल की अर्थव्यवस्था पर्यटन पर टिकी हुई हैं। ऐसे में उसके पास महामारी से लड़ने के लिए संसाधन का अभाव है। नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि मरीज बढ़ने पर उसके पास वयवस्था नहीं है।

मंत्रालय का कहना है कि नेपाल में यदि एक्टिव केस 25 हजार से ज्यादा हुए तो उनका देश इतने मरीजों को संभालने की स्थिति में नहीं है। ऐसे में उसके पास लॉकडाउन ही एक सहारा बचता हैं। बता दे फिलहाल नेपाल में 22 हजार से ज्यादा संक्रमण के केस है। जिस स्पीड से देश में कोरोना मरीज बढ़ रहे है, उसे देखते हुए 25 हजार से अधिक एक्टिव केस होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। ऐसे में देशभर में दोबारा सख्त लॉकडाउन लागू किया जा सकता हैं।

नेपाल के अखबार काठमांडू पोस्ट ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के मुख्य स्पेशलिस्ट डॉ. रोशन पोखरियाल कहते है कि देश में संकट गंभीरता के साथ बढ़ रहा हैं। गंभीर मरीजों के उपचार के लिए इस्तेमाल हो रहे मौजूदा संसाधन एक्टिव केस 25 हजार क्रॉस होने पर हैंडल नहीं कर पाएंगे।

यह भी पढ़े: अनुराग कश्यप ने यौन शोषण के आरोपों को बताया निराधार, पुलिस को दिए सबूत
यह भी पढ़े: हाथरस गैंगरेप कांड: TMC की महिला सांसद का पुलिस पर ब्लाउज फाड़ने का आरोप