30 सेकेंड में पता चलेगा कोरोना लक्षण, भारत और इस्रायल मिलकर कर रहे काम

कोरोना की जांच के लिए इस्रायल और भारत मिलकर चार अलग-अलग तरह की तकनीक पर काम कर रहे है। इसमें लगभग 30 सेकेंड में कोरोना का लक्षण पता लगाने की क्षमता भी शामिल है। इसमें ऐसी तकनीक भी शामिल है जिसमें किसी की आवाज सुनकर भी कोरोना के लक्षण का अंदाजा लगाया जा सकता है। यह तकनीक सांस के नमूने पर रेडियो तरंगों का उपयोग करती है और कोरोना के लक्षण का अंदाज लगाती है। इस्रायली बयान में यह जानकारी मिली है।

भारत में इस्रायली राजदूत रोन माल्का ने शुक्रवार को डॉ. राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) अस्पताल में बनाए गए विशेष परीक्षण स्थल का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने पिछले तीन दिन से तीव्र कोरोना जांच के लिए हो रहे परीक्षणों का निरिक्षण किया। माल्का के साथ इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. के विजयराघवन भी थे। बता दे भारत और इजरायल साथ मिलकर तेज कोरोना परीक्षण तकनीक पर तेजी से काम कर रहे है।

इजरायल की तरफ से एक बयान में कहा गया है कि आरएमएल अस्पताल परीक्षण स्थलों में से एक है, जिसने चार अलग-अलग प्रकार की तकनीकों का परीक्षण शुरू किया है, जिसमें कोरोना वायरस का पता लगाने की क्षमता 30 सेकंड से कम है।’ प्रो विजयराघवन ने सफलता की उम्मीद भी व्यक्त की।

यह भी पढ़े: नक्शा विवाद पर बोला नेपाल, हमने की बात करने की कोशिश लेकिन भारत सुनता नहीं
यह भी पढ़े: कोरोना से मौतों के मामले में पांचवा देश बना भारत, बीते 24 घंटे में 775 मौतें