2014 से पहले आता कोरोना वायरस तो लॉकडाउन लगाना असंभव होता: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली में राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र का उद्घाटन किया इस दौरान उन्होंने कहा कि साल 2014 से पहले देश में यदि कोरोना वायरस आता तो लॉकडाउन लगाना असंभव था क्योंकि उस वक्त देश की 60 फीसदी आबादी खुले में शौच जाया करती थी। मोदी ने कहा कि ‘स्वच्छग्रह’ ने हमें सशक्त बनाया है। बता दे राष्ट्रीय स्वच्छता केंद्र महात्मा गांधी को समर्पित है, जिसकी पीएम ने सबसे पहले घोषणा 10 अप्रैल 2017 को की थी।

याद दिला दे 10 अप्रैल 2017 को गांधीजी के चम्पारण सत्याग्रह के 100 साल पूरे हुए थे। यह स्वच्छ भारत मिशन पर एक परस्पर संवादात्‍मक (इंटरैक्टिव) अनुभव केंद्र होगा। आरएसके पहुंचने के बाद प्रधानमंत्री ने आज यहां स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की और केंद्र का अवलोकन किया।

आरएसके में स्थित सभागार में प्रधानमंत्री ने दर्शक 360 डिग्री का अनूठा ऑडियो-विजुअल कार्यक्रम भी देखा। इसमें भारत की स्वच्छता की कहानी दिखाई गई जिसे लोगों की आदतों में बदलाव लाने का सबसे बड़ा अभियान माना जाता है। इस क्रायक्रम के बाद पीएम ने दिल्ली के 36 स्कूली छात्रों से बातचीत की।

छात्रों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मुझे यह देखकर खुशी हुई कि आप स्वच्छता के मुद्दों में रचि रखते हैं। साथ ही प्रधानमंत्री ने कोरोना से खुद को सुरक्षित रखते हुए अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने की बात कही। वह 360 डिग्री के ऑडियो-विजुअल शो भी गए, जिसे उन्होंने सराहा है।

यह भी पढ़े: 12वीं की टॉपर छात्रा को परिवार ने पांच लाख में बेचा, पति बोला- तुम मेरी लिए वस्तु हो
यह भी पढ़े: धर्म गुरुओं की नीतियों और कूटनीतियों पर बेस्ड है प्रकाश झा की ‘आश्रम’ वेब सीरीज