गोरखपुर में तेजी से बढ़ रहा है कोरोना का ग्राफ, सगी बहनों और डॉक्टर समेत 12 नए मरीज मिले

गोरखपुर में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। गांव की अपेक्षा शहर में संक्रमण की गति तेज है। कोविड संक्रमण की जांच में सोमवार को 12 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। संक्रमितों में शहरी क्षेत्र में आठ और ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले चार लोग शामिल हैं।

इसमें तारामंडल इलाके की एक निजी महिला डॉक्टर और छोटे काजीपुर की दो सगी बहनें भी शामिल हैं। जिले में सक्रिय रोगियों की संख्या बढ़कर 46 हो गई है। 50 प्रतिशत संक्रमितों में मामूली लक्षण हैं, बच्चों को डायरिया की शिकायत है

। शेष लक्षण विहीन हैं। सीएमओ डा. आशुतोष कुमार दूबे ने बताया कि पहली लहर से लेकर अब तक जिले में 66932 लोग संक्रमित हो चुके हैं। 66010 लोगों ने कोरोना को मात दे दी है। 866 की मौत हो चुकी है। उन्होंने बचाव की अपील की है।

5381 लोगों को लगा टीका

कोविड टीकाकरण अभियान में सोमवार को 124 बूथों पर 5381 लोगों को कोरोनारोधी टीका लगाया गया। बूथों पर बहुत कम संख्या में लोग पहुंचे। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एएन प्रसाद ने बताया कि लोग बूथों पर आएं, सभी को टीका लगाया जाएगा।

हल्का बुखार और सर्दी जुकाम हैं लक्षण

गोरखपुर में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। विशेषज्ञ इसे चौथी लहर का संकेत बता रहे हैं। फिलहाल इस लहर में घबराने की जरूरत नहीं है। अब तक सामने आए संक्रमितों में सिर्फ 50 फीसदी में ही आंशिक लक्षण है। संक्रमितों में हल्का बुखार, सर्दी-जुखाम व गले में खराश जैसे लक्षण मिल रहे हैं

। संक्रमितों में किसी को भर्ती करने की आवश्यकता अब तक नहीं पड़ी है। जिले में इस समय 40 सक्रिय संक्रमित हैं। हर दूसरे संक्रमित में लक्षण मिल रहे हैं। ज्यादातर लक्षण वाले संक्रमित अधेड़ या बुजुर्ग हैं।

बच्चों को हो रहा डायरिया

इस बार जून में अब तक पांच बच्चे संक्रमित हो चुके हैं। जिसमें से तीन में डायरिया के लक्षण मिले हैं। डायरिया के साथ उनके गले में खराश भी सामने आया है।

यह पढ़े: दो आम के लिए हत्‍या, गोरखपुर में पिता और भाई ने युवक को बेरहमी से पीटा; मौत