भ्रष्टाचार कोढ़, इसे पूरी तरह समाप्त करना जरूरी : शिवराज

भोपाल, (एजेंसी/वार्ता): मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भ्रष्टाचार कोढ़ है और इसे पूरी तरह समाप्त करना है।


श्री चौहान आज सुबह अपने निवास कार्यालय से देवास जिले की समीक्षा बैठक कर रहे थे। इस दौरान देवास की प्रभारी मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, विधायक श्रीमती गायत्री राजे समेत जिले के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार पर राज्य सरकार की जीरो टोलरेंस की नीति है। जन-कल्याणकारी योजनाओं, विकास कार्यों, थानों में एफ.आई.आर. लिखे जाने और आपराधिक प्रकरणों पर कार्यवाही के मामलों में भ्रष्टाचार की प्रत्येक शिकायत या सूचना पर दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित करें। जन-सामान्य को योजनाओं का बिना लिए-दिए, समय पर लाभ मिले, सभी क्षेत्रों में सुशासन स्थापित हो, यही राज्य सरकार की प्राथमिकता है। इस प्रकार की व्यवस्थाएँ स्थापित करने के उद्देश्य से ही प्रात:कालीन बैठकें की जा रही हैं।


उन्होंने कहा कि जन-प्रतिनिधि और अधिकारी-कर्मचारी टीम भावना से कार्य करें, उनके प्रयासों में कोई कमी न रहे। मुख्यमंत्री श्री चौहान देवास जिले में संचालित जन-कल्याणकारी योजनाओं, विकास कार्यों तथा कानून-व्यवस्था की स्थिति की मॉर्निंग मीटिंग में समीक्षा कर रहे थे। उन्हेांने कहा कि ऐसे अधिकारी-कर्मचारी जो लंबे समय से एक ही स्थान पर पदस्थ हैं अथवा जिनका आचरण ठीक नहीं है या जिनके विरूद्ध भ्रष्टाचार की शिकायतें हैं, उन्हें तत्काल चिन्हित किया जाए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण तथा मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में देवास जिले की प्रगति के लिए जिला अधिकारियों को बधाई दी। मुख्यमंत्री ने गुम बच्चियों की बरामदगी और महिला सुरक्षा के लिए देवास जिले में संचालित गतिविधियों की प्रशंसा की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल जीवन मिशन तथा प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में जिले में कार्यों की धीमी गति, पिछले 2 माह से पूरक पोषण आहार वितरण नहीं होने और ग्रामीण सड़कों की स्थिति पर नाराजगी व्यक्त की।
मुख्यमंत्री ने उर्वरक की उपलब्धता के संबंध में कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि किसानों को खाद के लिए लाइन नहीं लगानी पड़े। मुख्यमंत्री ने जिले में रोजगार मेलों और स्व-रोजगार गतिविधियों की जानकारी भी प्राप्त की। युवाओं और विद्यार्थियों को नशे की लत से बचाने के लिए जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश भी दिए।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि एक जिला-एक उत्पाद में जिले में लिए गए उत्पाद, बाँस की खेती को प्रोत्साहित किया जाए। इससे किसानों की अतिरिक्त आय का स्त्रोत भी विकसित होगा। बाँस के उत्पादों को देवास जिले की पहचान बनाने के लिए नवाचार किए जाएं। कलेक्टर ने जानकारी दी कि बाँस उत्पादों की बिक्री को प्रोत्साहित करने के लिए अमेजन, फ्लिपकार्ट सहित देश के विभिन्न शो-रूम से भी सम्पर्क किया जा रहा है।

-एजेंसी/वार्ता

यह भी पढ़ें:-हिना है गिरते-टूटते बालों के लिए बेहद लाभदायक, जानिए कैसे?