फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट का बड़ा फैसला: अब काशी के ज्ञानवापी परिसर में भी खुदाई कराएगा ASI

काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सीनियर डिवीज़न फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट का बड़ा फैसला आया है। इस मामले में अदालत ने पूरे परिसर का पुरातात्विक सर्वेक्षण कराने को कहा है। बता दें कि मंदिर पक्ष ने दिसंबर 2019 में पुरातात्विक सर्वे के लिए अपील की थी।

ASI ज्ञानवापी मस्जिद की भी खुदाई कर मंदिर पक्ष के दावे की प्रमाणिकता को परखेंगी।प्राचीन मूर्ति स्वयंभू आदि विशेश्वर पक्ष के वकील विजय शंकर रस्तोगी ने बताया कि कोर्ट ने केंद्र सरकार और उत्तर सरकार को पत्र के जरिए इस मामले में पुरातत्व विभाग की पांच सदस्यीय टीम बनाकर पूरे परिसर के पुरातात्विक सर्वेक्षण करने का आदेश दिया है।

ज्ञानवापी मस्जिद के पक्षकारों और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के वकीलों ने विवादित ढांचे के पुरातात्विक सर्वेक्षण कराए जाने को लेकर आपत्ति दर्ज कराई थी। मस्जिद पक्ष की दलीलों को दरकिनार कर कोर्ट ने गुरुवार को इस मामले में पुरातात्विक सर्वेक्षण के आदेश दे दिए।

बताया जाता है कि विवादित ढांचे के फर्श के नीचे 100 फीट ऊंचा आदि विशेश्वर का स्वयम्भू ज्योतिर्लिंग स्थपित है। यही नहीं विवादित ढांचे के दीवारों पर देवी देवताओं के चित्र भी प्रदर्शित है।

यह भी पढ़ें:

बीजापुर में जवान को सकुशल रिहा किये जाने के पीछे हैं 92 साल के ताऊ जी धर्मपाल सैनी, जानिए उनके बारे में