सिनेमाघर मालिकों के सामने रोजी-रोटी का संकट, 12 फीसदी बंद होने की कगार पर

कोरोना वायरस के चलते देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई हैं। लोगो के काम-धंधे भी बिगड़ गए हैं और हर कोई इस त्योहारी सीजन में उम्मीद लगाए बैठा है कि उसकी गाड़ी अब पटरी पर आएगी। लेकिन इसी बीच खबर हैं कि कोरोना से फिल्म इंडस्ट्री पर भी गहरा असर हुआ है, जिसके कारण अब सिनेमाघरों का अस्तित्व भी संकट में आ गया हैं। कई राज्यों में स्तिथ सिनेमाघर खोलने के बाद भी ये दर्शकों के लिए तरस रहे हैं। ऐसे में कई हॉल बंद होने की कगार पर हैं।

फिल्म इंडस्ट्री को कोरोना वायरस ने काफी नुकसान पहुंचाया हैं। लगातार कई महीने तक शूटिंग बंद होने की वजह से फिल्मों की रिलीज डेट आगे टाल दी गई। कई बड़े प्रोजेक्ट बंद हो गए। इसलिए सिनेमाघरों को भी दर्शक नहीं मिले और सिनेमाघरों के मालिकों के सामने रोजी-रोटी का संकट आन पड़ा हैं।

फेडरेशन ऑफ इंडियन चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज की रिपोर्ट के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान 12 फीसदी सिनेमाघर हमेशा के लिए बंद हो चुके हैं। कई राज्यों में सिनेमाघर अब तक नहीं खुल पाए हैं, ऐसे में अंदाजा यही लगाया जा रहा है कि कुछ और सिनेमाघरों में फिर कभी रोशनी न हो।

यह भी पढ़े: नवंबर में पांच बार वर्चुअल मंचों पर आमने-सामने होंगे नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग
यह भी पढ़े हरियाणा में पटाखे बेचना और रखना अपराध घोषित, पकड़े जाने पर मिलेगी कड़ी सजा