यूरिक एसिड के मरीजों के लिए रामबाण है जीरा, जानिये कब करें डाइट में शामिल

जब किसी वजह से किडनी की फिल्टर करने की क्षमता कम हो जाती है तो यूरिक एसिड की समस्या बढ़ने लगती है। यूरिक एसिड शरीर के सेल्स और उन चीजों से बनता जो हम खाते हैं। शरीर में यूरिक एसिड का उच्च स्तर कई तरह की बीमारियां पैदा करता है जैसे अर्थराइटिस, गाउट, हृदय रोग, शुगर या किडनी रोग। ऐसे में यूरिक एसिड के मरीजों को अपने खान-पान का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। यूरिक एसिड के मरीज अपनी डाइट में जीरा शामिल जरूर शामिल करें। आइए जानते हैं जीरे को कब और कैसे करना चाहिए डाइट में शामिल-

यूरिक एसिड के मरीजों के लिए जीरा: जीरा में आयरन, कैल्शियम, जिंक और फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं जो यूरिक एसिड के मरीजों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सीडेंट उच्च मात्रा में मौजूद होता है जो यूरिक एसिड के कारण होने वाले जोड़ों के दर्द और सूजन को कम करता है। इतना ही नहीं जीरा शरीर के टॉक्सिंस को फ्लश आउट करने में भी मदद करता है।

यूरिक एसिड के मरीज जीरा को कैसे करें डाइट में शामिल: अगर आप रोजाना जीरे के पानी का सेवन करते हैं तो आपको हाई यूरिक एसिड से भी राहत मिल सकती है। इसके लिए रातभर जीरे को पानी में भिगोकर रखें और अगले दिन इस पानी को स्टोर कर इसका सेवन करते रहें। ऐसे में आपको एक दिन में कम से कम एक से दो बार जीरे का पानी पीने की सलाह दी जाती है।

यूरिक एसिड के मरीज और क्या करें:

नींबू: नीबू में मौजूद साइट्रिक एसिड बॉडी में यूरिक एसिड लेवल को बढ़ने से रोकता है। इसके लिए सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में नीबू का रस निचोड़ कर पिएं।

धनिया: धनिया एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है और एक तरह से डाइयूरेटिक की तरह काम करता है। इसका व इसके जूस का भरपूर सेवन करना गठिया और अन्य तकलीफों से निजात दिलाएगा।

हाई फाइबर फूड: यूरिक एसिड के मरीजों को फाइबर वाले फूड्स का सेवन करना चाहिए। इससे यूरिक एसिड के स्तर को अवशोषित करने और शरीर से उसे बाहर निकालने में मदद मिलती है। साबुत अनाज, सेब, संतरे और स्ट्रॉबेरी फाइबर से भरपूर हैं।

यह भी पढ़े-

कमल हासन की फिल्म ने चटा दी बाहुबली 2 को धूल, आंकड़े देख छूटेंगे प्रभास के भी होश