जुकाम और छीकों में बहुत सहायक हैं जीरा, जानिए इस्तेमाल

क्या आप जुकाम की छीकों से परेशान हैं तो हम आपको कुछ टिप्स बताते हैं, जिन्हे अपनाकर आप छीकों से राहत पा सकते हैं। तो हम आपको बतादें कि जीरे का सेवन करने से छीकों से राहत मिलती हैं।

ये केवल एक मसाला मात्र नहीं है। बल्कि इसके अन्य कई सेहत लाभ भी हैं। भोजन में अरुचि, पेट फूलना, अपच आदि को दूर करने में जीरा विश्वसनीय औषधि है। जीरा पाचक तथा सुगंधित मसाला है। चलिए आइये जानते हैं जीरे के सेहत लाभ के बारे में…

-जीरा कृमिनाशक है तथा ज्वरनिवारक भी है। ध्यान रहे जीरा गरम प्रकृति का होता है अत: इसके अधिक सेवन से उल्टी भी हो सकती है।

-अगर आप भुने हुए जीरे को लगातार सूंघेंगे तो जुकाम की छीकें आना बंद हो जाती है। प्रसूति के बाद जीरे के सेवन से गर्भाशय की सफाई हो जाती है। जीरे को उबाल कर उस पानी से स्नान करने से खुजली मिटती है।

-अगर आप बवासीर में मिश्री के साथ सेवन करेंगे तो शांति मिलती है। जीरे और नमक को पीसकर घी और शहद में मिलाकर थोड़ा गर्म करके बिच्छू के डंक पर लगाने से विष उतर जाता है।