Breaking News
Home / टेक्नोलॉजी / डेटा सुरक्षा और साइबर क्राइम न्यायपालिका के लिए चुनौती: पीएम मोदी

डेटा सुरक्षा और साइबर क्राइम न्यायपालिका के लिए चुनौती: पीएम मोदी

सुप्रीम कोर्ट में इन दिनों चल रहे इंटरनेशनल जुडिशल कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी ने कहा कि महात्मा गांधी जी का जीवन सत्य और सेवा को समर्पित था। जो हर न्याय तंत्र की मजबूत नींव मानी जाती है।

मोदी जी ने कहा कि यह कांफ्रेंस 21वीं सदी का कॉन्फ्रेंस है। इस समय पूरे देश के साथ दुनिया में बहुत बड़े बदलाव हो रहे हैं। यह बदलाव सामाजिक, आर्थिक, तकनीकी हर क्षेत्र में हो रहे हैं। यह बदलाव तर्कसंगत और न्याय संगत होना चाहिए। तभी बदलाव सभी के हित में होगा।

Loading...

पीएम ने कहा कि हर भारतीय को न्यायपालिका पर सबसे अधिक भरोसा है। अयोध्या फैसला इसी ओर इशारा करता है। अभी हाल ही में न्यायपालिका के द्वारा जो बड़े फैसले लिए गए उनकी चर्चा पूरी दुनिया में हुई।

उन्होंने अपने भाषण में यह भी कहा कि इतनी बड़ी चुनौतियों के बाद कई बार देश के लिए संविधान के तीन स्तंभों ने उचित रास्ता ढूंढा है। हमें अपने संविधान पर गर्व है।

यहां पर उन्होंने सबसे अधिक चर्चित “जेंडर जस्ट वर्ल्ड” के विषय को भी रखा। उन्होंने कहा कि कोई भी समाज जेंडर जस्टिस के बिना पूरा नहीं हो सकता। इसके बिना न्याय प्रिय समाज नहीं बनाया जा सकता।

उन्होंने यह भी कहा कि डाटा सुरक्षा, साइबर कानून न्यायपालिका के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रहा है। इनसे निपटने में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हमारी मदद कर सकती है।

जिस नारे का समर्थन ओवैसी ने भी नहीं किया, रवीश कुमार ने कर दिया?

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *