3डी इंप्लांट तकनीक के जरिए 17 वर्ष के किशोर के विकृत सिर को किया सामान्य

राजस्थान में उदयपुर के पारस अस्पताल की न्यूरोलॉजी टीम ने 3डी मेश इम्प्लांट तकनीक से 17 वर्ष के एक किशोर सफल सर्जरी की गयी। अस्पताल के वरिष्ठ न्यूरोसर्जन डॉ. अजीत सिंह ने आज यहां बताया कि 17 साल के कन्हैयालाल युवक को नीमच जिले से जनवरी में बेहोशी और कमजोरी की स्थिति में पारस अस्पताल उदयपुर के इमरजेंसी में लाया गया था।

मरीज को शरीर के दाईं ओर ज़्यादा कमजोरी थी और कमजोरी महसूस करने के एक दिन बाद, मरीज़ को अस्पताल लाया गया था। जब मरीज़ को अस्पताल में भर्ती किया गया, तब उसके सिर में काफ़ी सूजन आ चुकी थी जिसके कारण उसके सिर के अंदर का प्रेशर बढ़ गया था और प्रेशर बढ़ने से मरीज बेहोशी की स्थिति में पहुंच चुका था। उन्होंने बताया कि इस तरह के कई मामलों में समय पर इलाज ना मिलने पर मरीज कोमा में जा सकता है।

इस स्थिति में हमनें प्रेशर को कम करने के लिए एक सर्जरी की जिसे डीकंप्रेसिव क्रेनिएक्टोमी कहते हैं। इस प्रक्रिया में सिर के एक हिस्से की हड्डी को हटा दिया जाता है ताकि सूजन वाले मस्तिष्क के भाग को कम किया जा सके। डा अजीतसिंह ने बताया कि इस तरह का उदयपुर संभाग में पहला ऑपरेशन है।

यह भी पढ़े: शिवराज ने बैडमिंटन और भारोत्तोलन में पदक मिलने पर दी बधायी