चीन के विरोध में नेपाल में प्रदर्शन, ‘गो बैक चाइना’ के नारे, PM ओली ने साधी चुप्पी

झूठ, फरेब और दोस्ती का दिखावा कर चीन ने नेपाल की भूमि पर अपना कब्जा जमा लिया है। चीन के इस कृत्य का विरोध नेपाल में शुरू हो गया है, लेकिन पीएम केपी शर्मा ओली चुप्पी साधे हुए है। दरअसल, बुधवार को चीन द्वारा सीमा उल्लंघन और नेपाली भूमि पर कब्जे को लेकर काठमांडू स्थित चीनी दूतावास के बाहर नेपाली छात्र संगठन और अन्य समूह के लोगों ने ‘गो बैक चाइना’ के नारे लगाते हुए प्रदर्शन किया। जिन्हें नेपाली पुलिस ने बलपूर्वक खदेड़ दिया।

बुधवार सुबह सैकड़ों की संख्या में नेपाली छात्र और सचेत समूह नेपाल के लोग काठमांडू स्थित चीनी दूतावास पहुंचे। लोगों ने यह प्रदर्शन अध्यक्ष शंकर हमाल के नेतृत्व में किया। इस दौरान नेपाली छात्र और सचेत समूह के लोगों ने ‘गो बैक चाइना’ के बैनर पोस्टर हाथों में लेकर अपना विरोध जाहिर किया।

बैनरों और पोस्टरों में चाइनीज साम्राज्य मुर्दाबाद, चीन अतिक्रमण बंद करो, नेपाली भूमि वापस करो के नारे लिखे हुए थे। विरोध उग्र होते हुए देख नेपाली पुलिस ने प्रदर्शन करने वालों को बल पूर्वक चीनी दूतावास से बाहर खदेड़ दिया। संगठन के अध्यक्ष शंकर हमाल ने कहा चीन ने नेपाल की भूमि हड़प ली है। इसी वजह से विरोध प्रदर्शन किया गया है। सब कुछ सामने होता देखकर भी प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली चुप है।

यह भी पढ़े: पड़ोसी देशों से रिश्ते बिगाड़ मोदी सरकार ने कांग्रेस की मेहनत पर फेरा पानी: राहुल गांधी
यह भी पढ़े: रिलायंस रिटेल में अमेरिकी कंपनी केकेआर 5550 करोड़ में खरीदेगी 1.28 फीसदी हिस्सेदारी