दांतो के इंफेक्शन से भी हो सकता है ‘heart attack’

आजकल के व्यस्त समय में लोगों के लाइफस्टाइल में तेजी से बदलाव आ रहा है जिसके कारण से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ता जा रहा है। अभी हाल में हुए के अध्ययन के अनुसार अगर आप दिल की तमाम तरह की बीमारियों से बचना चाहते हैं तो अपने दांतों का ख्याल अच्छी तरह रखें। दांत की जड़ों के ऊपरी भाग में होने वाले संक्रमण से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। यह संक्रमण बेहत ही सामान्य और लक्षणरहित होता है जिस पर शायद ही लोगों का ध्यान जाता है। ऐसे में इसका इलाज नहीं करने पर ये घातक रोग बन जाता है।

फिनलैंड स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ हेलसिंकी के अध्ययनकर्ता के अनुसार, ‘दांतों के जड़ों के उपचार की जरूरत वाले रोगियों को अगर चिकित्सा नहीं मिलती है तो उनमें बगैर इस विकार वाले रोगियों की तुलना में एक्यूट कोरेनरी सिंड्रोम का खतरा 2.7 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। ‘दांतों के जड़ों में संक्रमण एपिकल पीरियडोंटाइटिस की बीमारी है। इस बीमारी में दांत की जड़ के ऊपरी भाग के चारों ओर एक तेज संक्रमण और दर्द होता है। इस बीमारी का प्रमुख कारण दांतों में सड़न का होना है। इस अध्ययन के लिए अध्ययनकर्ताओं ने फिनलैंड के 62 वर्ष से अधिक उम्र के 508 रोगियों पर अध्ययन किया। ये सारे लोग अध्ययन के दौरान दिल की बीमारी से पीड़ित थे।

इस अध्ययन के अध्ययनकर्ताओं का कहना है कि संक्रमित दांतों के रूट कैनाल का इलाज दिल की बीमारियों के जोखिम को कम करने में काफी असरकारक हो सकता है। यह अध्ययन इस बात की पुष्टि करती है कि मुंह में किसी भी तरह का संक्रमण शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित करता है। इस अध्ययन को जर्नल ऑफ डेंटल रिसर्च में प्रकाशित किया गया है।

यह भी पढ़ें:

एल्युमिनियम फॉयल में पैक खाना बनता है इन गंभीर बीमारियों का कारण!

कमर दर्द से हैं परेशान, तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे