जानिए, कब तक लांच होंगे तीनो स्‍वदेशी वैक्सीन जिनका जिक्र पीएम मोदी ने अपने भाषण में किया

देश में कोरोना के तीन वैक्सीन के परीक्षण का जिक्र पीएम मोदी ने अपने भाषण में किया जिनका देश के विभिन्न केंद्रों पर अलग-अलग चरणों में ट्रायल चल रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक इनके शुरुआती नतीजे काफी उम्मीद जगाने वाले रहे हैं।

स्वदेशी कोविड-19 वैक्सीन कोवाक्सिन को भारत बायोटेक ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के साथ मिलकर ह्यूमन ट्रायल शुरू कर दिया है। यह वैक्सीन लगवाने के बाद शरीर एंटीबॉडी का उत्पादन करता है, जो कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ सकता है। कई लोगों का मानना है कि इसके परीक्षण 15 महीनों से अधिक चलेंगे।

फार्मास्युटिकल कंपनी जायडस कैडिला वैक्सीन जायकोव-डी का भी ह्यूमन क्लीनिकल ट्रायल जारी है। कंपनी का कहना है कि वैक्सीन अगले साल तक लांच हो सकती है। इस तरह के टीकों में जेनेटिकली इंजीनियर्ड प्लाज्मिड होता है। यह एक छोटा डीएनए अणु होता है, जो कि स्वतंत्र रूप से प्रतिकृति बना सकता है। डीएनए आधारित वैक्सीन को सार्स सीओवी-2 वायरस के किसी अन्य संस्करण की आवश्यकता नहीं होती है। यह वायरस को काफी सामान्य बना देता है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्रा जेनेका द्वारा विकसित वैक्सीन के लिए भारत में परीक्षण शुरू करने के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की अनुमति ली है। वैक्सीन ने पहले ही अमेरिका और ब्राजील सहित दुनिया के कई हिस्सों में तीसरे चरण के परीक्षणों का दौर शुरू कर दिया है। नवंबर में यह ट्रायल खत्म होंगे, जिसके बाद इस वैक्सीन को लांच किया जा सकता है।