देवभूमि उत्तराखण्ड को भ्रष्टाचार मुक्त बनाया जायेगा : धामी

उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को कहा कि राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाया जायेगा। धामी ने आज सर्वे चौक स्थित आई.आर.डी.टी सभागार में सुशासन, पारदर्शी एवं भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखण्ड के सबंध में आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने घोषणा की कि विजिलेंस का दो करोड़ रूपये का रिवॉल्विंग फण्ड बनाया जायेगा। राज्य में विजिलेंस के ढ़ाचे एवं अन्य सुविधाओं को सशक्त कर बढ़ाया जायेगा। साथ ही, विजिलेंस में सराहनीय कार्य करने वाले कार्मिकों को प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने चार विसलब्लोवर को सम्मानित भी किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने भ्रष्टाचार मुक्त देवभूमि का संकल्प लिया है। राज्य को 2025 तक भ्रष्टाचार मुक्त एवं नशामुक्त बनाने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखण्ड के लिए सभी विभागों को विजिलेंस के साथ समन्वय से कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि जो ईमानदारी से कार्य कर रहे हैं, उन्हें किसी से डरने की जरूरत नहीं है।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि भ्रष्टाचार मुक्त उत्तराखण्ड के लिए 1064 एप लॉच होने के बाद से इस एप पर अभी तक पांच हजार से अधिक शिकायतें आ चुकी हैं। जो शिकायतें भ्रष्टाचार से संबंधित हैं, उन पर सतर्कता विभाग द्वारा लगातार कारवाई की जा रही, जो सराहनीय कार्य है। जो शिकायतें भ्रष्टाचार से संबंधित नहीं हैं, लेकिन 1064 पर प्राप्त हो रही हैं, उन्हें सीएम हेल्पलाईन से जोड़ा गया है, ताकि जन समस्याओं का तेजी से समाधान हो सके।
इस दिशा में भी सतर्कता विभाग द्वारा सराहनीय कार्य किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि जन समस्याओं के त्वरित समाधान के लिए सरकार सरलीकरण, समाधान, निस्तारण एवं संतुष्टि के भाव से कार्य कर रही है। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, डीजीपी अशोक कुमार, प्रमुख सचिव आर.के. सुधांशु, विशेष प्रमुख सचिव अभिनव कुमार, निदेशक सतर्कता अमित सिन्हा, शासन एवं पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़े: आदिबद्री एवं कनकांचल क्षेत्र को वन क्षेत्र घोषित कर दिए जाने के बाद मशीनरी हटना शुरू