Breaking News
Home / लेटेस्ट न्यूज़ / डायमंड और ज्वैलरी फाइनेंसिंग 2018: साथ आए जीजेईपीसी और बैंक

डायमंड और ज्वैलरी फाइनेंसिंग 2018: साथ आए जीजेईपीसी और बैंक

केंद्रीय वाणिज्य-उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने ‘डायमंड एंड ज्वैलरी फाइनैंसिंग 2018 मिटिगेटिंग रिस्क्स इफैक्टिवली‘ विषय पर आयोजित एक दिवसीय सेमिनार में जीजेईपीसी द्वारा तैयार श्वेतपत्र जारी किया। जोखिम कम करने और फाइनेंसरों में आत्मविश्वास को फिर से बढाने के तरीके खोजने के लिए रत्न और आभूषण उद्योग द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में एसबीआई, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडसइंड बैंक, ईसीजीसी आदि सहित अग्रणी बैंकों और वित्तीय संस्थानों और उद्योग की प्रमुख कंपनियों ने भाग लिया।

Burger King से खाया बर्गर, गले में हुआ घाव

इस अवसर पर केंद्रीय वाणिज्य-उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा, ‘3 मिलियन नई नौकरियों के साथ, बैंकों को उद्योग के प्रयासों को वित्त पोषित करने में संकोच नहीं करना चाहिए जो कि भरोसेमंद, पारदर्शी और बोर्ड के ऊपर हैं। इस तथ्य पर भी विचार करते हुए कि यह क्षेत्र विकास के रास्ते पर आगे बढ रहा है और भविष्य में उद्योग की संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए, बैंकों को व्यापार को बढ़ावा देने वाले वैध खिलाडि़यों को उधार देने के प्रयासों को आगे बढ़ाना चाहिए।

जीजेईपीसी द्वारा श्वेतपत्र जारी करने के प्रयासों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, ‘मुझे इस बात की खुशी है कि काउंसिल ने डायमंड और ज्वैलरी फाइनैंसिंग को लेकर इस तरह का श्वेतपत्र जारी किया है।मुझे उम्मीद है कि बैंकों ईसीजीसी की सक्रिय भागीदारी और अन्य हितधारकों ने रत्नों और आभूषण उद्योग के विकास के लिए रणनीति बनाने में मदद की है, जिसमेंगहन श्रम के साथ निरंतर नौकरी निर्माण और आर्थिक विकास होने का एक प्रमाणित ट्रैक रिकॉर्ड है।

16 मई को लॉन्च होगा नोकिया एक्स 6 स्मार्टफोन, ये हो सकते हैं फीचर्स

मंत्री ने यह भी कहा कि ‘‘हम उद्योग में गलत काम करने वालों को कभी भी प्रोत्साहित नहीं करेंगे बल्कि हमारी वित्तीय प्रणाली को इस बात के लिए बढावा देंगे कि वह रत्न और आभूषण क्षेत्र के सभी वास्तविक खिलाडि़यों का समर्थन करे। उद्योग को पूर्ण क्षमता का एहसास करने में मदद करने के लिए यह आवश्यक है।

एजेंडा: 2025 तक उद्यमियों में 25 फीसदी संख्या महिलाओं की हो

समाधान खोजने और फाइनेंसिंग कम्युनिटी के आत्मविश्वास को मजबूत करने के उद्योग के संकल्प का प्रतिनिधित्व करते हुए श्री प्रमोद अग्रवाल, अध्यक्ष जीजेईपीसी ने कहा, ‘‘मुद्दा यह है कि इस उद्योग को विकसित करने में दशकों की कड़ी मेहनत और वचनबद्धता जुडी है।

 

 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *