नींद में सांस लेने में दिक्कत से बढ़ जाता है ग्लूकोमा का खतरा

अगर नींद के दौरान आपको सांस लेने में परेशानी होती है तो आंख के डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करें। जी हां! नींद में सांस लेने में दिक्कत पेश आने से आंखों की रोशनी जाने का खतरा रहता है। ऐसे लोगों में खतरनाक ग्लूकोमा होने की आशंका दस गुना तक ज्यादा रहती है।

इस बीमारी में ऑप्टिकल नर्व के क्षतिग्रस्त होने से धीरे–धीरे आंखों की रोशनी कम होने लगती है। समय पर इलाज नहीं होने की स्थिति में पीड़ित व्यक्ति दृृष्टिहीनता का भी शिकार हो सकता है। जापानी शोधकर्ताओं ने बताया कि ऑक्सीजन की कमी से ऑप्टिकल नर्व को नुकसान पहुंचने की आशंका रहती है। आंखों पर दबाव ब़ढने की वजह से ऐसा होता है। यह पहला मौका है, जब ऑक्सीजन का आंखों की रोशनी के लिए जिम्मेदार ऑप्टिकल नर्व से संबंध स्थापित किया गया है।

यह भी पढ़ें:

इस मानसून में जरूर खाएं इम्यूनिटी बढ़ाने वाली ये 3 चीजें

वायरल फीवर को कुछ ही समय में कीजिए छूमंतर, जानिए कैसे?