इन बातों का अवश्य रखें ध्यान मधुमेह रोगी यात्रा के समय

जहां भी आप जाते हैं, मधुमेह आपके साथ चलता है। लेकिन कुछ छोटी योजना बनाकर आप सफर में भी अपने मधुमेह को पूर्ण्तः संभाल सकते हैं और अपनी यात्रा का भरपूर आनंद ले सकते हैं। यात्रा पर जानें से पहने अपने डॉक्टर से प्राथमिक रूप से कम से कम तकरीबन 4 से 6 सप्ताह पहले स्वास्थ्य सलाह लेना आवश्यक है। विदेश यात्रा करते समय, मधुमेह वाले लोगों के लिए समय काटना बहुत मुश्किल होता है क्योंकि आपके इंसुलिन में अत्यधिक गड़बड़ी होती है। आपको कही जाने से एक महीने पहले अपने डॉक्टर से अपनी यात्रा का जिक्र अवश्य करना चाहिए ताकि आपका डॉक्टर आपके इंसुलिन रेजिमेंट में बदलावों की योजना बनाने में आपकी भरपूर मदद कर सके।

मरीजों को यात्रा करते समय इन सुझावों पर अवश्य ध्यान देना चाहिए

-मधुमेह के रोगी को हमेशा अपनी दवाओं या इंसुलिन को पर्याप्त मात्रा में उनके साथ ले जाने की सलाह दी जाती है। हमेशा साथ में परिवहन सुरक्षा प्रशासन (TSA) और इंसुलिन ले जाने के साथ डॉ. द्वारा सूचित सिरिंज, परीक्षण स्ट्रिप्स, और अन्य चीजें ले जाना कतई ना भूलें। प्रत्येक मधुमेह रोगी को अपनी जेब में ID कार्ड रखना होता है, जो यह बताता है कि वे मधुमेह हैं और आपातकाल में उन्हें सहायता मिल सकें।

-अपने मेडिकल किट को ले जाना पूर्ण्तः सुनिश्चित करें। किट में ठंड, खांसी जैसी सामान्य बीमारियों के इलाज के लिए मूल दवाएं भी अवश्य शामिल होनी चाहिए। इसमें किसी भी घाव के मामले में पट्टियां, गौज, एंटीसेप्टिक घाव सफाई करने वाला, चिपकने वाला टेप आदि जरूर होना चाहिए। अपने चिकित्सक की पर्ची की प्रतिलिपि रखना हमेशा बेहतर होता है और प्राथमिक चिकित्सा बॉक्स में किसी भी पूर्व-मौजूदा चिकित्सा स्थितियों के लिए अतिरिक्त दवाएं लेना बहुत बेहतर होता है।

– सैंडविच, पराठा, और बिस्कुट जैसे कुछ भोजन अपने साथ जरूर ले जाएं। आप ये कभी नहीं जानते कि आपको कब देरी हो जायेगी या गलती से आप किसी जगह अतिरिक्त घंटे या दो दिनों के लिए किसी जगह पर फंस जाएंगे।

यह भी पढ़ें-

ये तेल बालों में लगाए, होगा बहुत लाभ