भूल से भी न खाएं ज्यादा मीठा, वरना दिमाग हो जाएगा स्लो

Hand placing a sugar cube on top of crystal sugar heap. More added on top of already existing heap

यह तो हम सभी जानते हैं कि जरूरत से ज्यादा मीठा आपकी सेहत पर विपरीत असर डालता है। इससे आपको मधुमेह से लेकर मोटापे तक कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड सकता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जरूरत से ज्यादा मीठा सिर्फ आपको शारीरिक तौर पर ही नहीं, बल्कि मानसिक तौर पर भी प्रभावित करता है। शायद आपको जानकर हैरानी हो लेकिन जब आप आवश्यकता से अधिक मीठे का सेवन करते हैं तो इससे आपके दिमाग की कार्यप्रणाली बाधित होती हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से-

  • हाल ही में हुए अध्ययन बताते हैं कि ज्यादा मीठा खाने के बाद हमारे शरीर पर चीनी यानी शुगर क्रैश का असर दिखने लगता है जिससे हमारे दिमाग के कार्य करने की क्षमता धीमी हो जाती है। मीठे के सेवन के बाद आपको आलस का अहसास होता है।
  • स्टडी बताती है कि शुगर कोमा जिसका संबंध ग्लूकोज से है एक ऐसी घटना है जो हकीकत में होती है। इस अवस्था में ग्लूकोज जिसमें चीनी की ज्यादा मात्रा होती है का सेवन करने के बाद उस व्यक्ति का अटेंशन यानी सतर्कता घटने लगती है। खासतौर पर इस स्टडी में इस बात की ओर फोकस किया गया कि चीनी के सेवन के बाद हमारे मस्तिष्क के काम करने की प्रवृत्ति में किस तरह का बदलाव होता है।

यह भी पढ़ें:

इस मानसून में जरूर खाएं इम्यूनिटी बढ़ाने वाली ये 3 चीजें

वायरल फीवर को कुछ ही समय में कीजिए छूमंतर, जानिए कैसे?