भूलकर भी न खाएं ये आहार, बढ जाएगा पीसीओएस का बहुत ज्यादा खतरा

पीसीओएस एक ऐसी समस्या है, जिससे बहुत सी महिलाएं प्रभावित हैं। पीसीओएस की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यह आपकी प्रजनन क्षमता को विपरीत रूप से प्रभावित करती है। ऐसे में यह बेहद आवश्यक है कि जितना हो सके, आप इससे दूरी बनाने का प्रयास करें। वैसे भी कहते हैं न कि इलाज से बेहतर बचाव है तो क्यों न इसके रिस्क को कम करने के लिए आप पहले ही कुछ कदम उठाएं। तो चलिए आज हम आपको ऐसे आहार के बारे में बताते हैं, जो पीसीओएस के खतरे को बढा सकते हैं-

  • अगर आप मांसाहारी है तो आप रेट मीट का सेवन लिमिटेड मात्रा में ही करें। दरअसल, इसमें सैचुरेटेड फैट्स होते हैं जो एस्‍ट्रोजन के स्‍तर को बढ़ाते हैं जिससे वजन बढ़ने और पीसीओएस होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • वहीं सफेद चीनी भी आपके लिए जहर के समान काम करती है। दरअसल, इसकी अधिक मात्रा का सेवन करने से शरीर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ जाता है और इससे पीसीओएस होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • इसके अतिरिक्त अधिक मात्रा में कॉफी के सेवन से पीसीओएस की संभावना बढ़ जाती है। कॉफी में मौजूद कैफीन एस्‍ट्रोजन के स्‍तर को बढ़ाता है जो पीरियड्स के साथ-साथ महिलाओं की प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है।
  • शरीर में सूजन बढ़ना पीसीओएस होने का यह एक मुख्य कारण है और प्रोसेस्ड फूड में मौजूद केमिकल्स, प्रिजर्वेटिव और एडिटिव चीजों के कारण शरीर में इंसुलिन का स्तर बढ़ता है, जिसके कारण शरीर में सूजन बढ़ती है।

यह भी पढ़ें:

डायबिटीज जैसे गंभीर रोग से बचने के लिए जानिए इन बातों का रखे ध्यान

इन उपायों की मदद से आप बच सकते है माइग्रेन की गंभीर बीमारी से