लम्बे समय तक रहने वाले सर दर्द को ना करे अनदेखा,वरना…

दिनभर की भागदौड़ होने के कारण हमारा शरीर थक कर चूर हो जाता है और कभी-कभी सर दर्द भी होने लगता है। जो की सामान्य है। इसके अलावा नींद पूरी न होने, दांतों में दर्द होने, थकान होने, चश्मे का नंबर बढ़ने, मौसम बदलने पर सिरदर्द हो सकता है। सिर दर्द अनेक प्रकार होते हैं। जिसमे एक है माइग्रेन….

माइग्रेन एक ऐसी बीमारी है जिसमे सर में तेज दर्द होता है वो भी आधे सर में दर्द होता है। ये दर्द 2 घंटे से लेकर 72 घंटे तक लम्बा भी चलता है। जब माइग्रेन का दर्द होता है तो मरीज को लगता है जैसे सिर पर हथौड़े पड़ रहे हैं। यह दर्द इतना तेज होता है कि कुछ वक्त के लिए मरीज ढंग से कामकाज भी नहीं कर पाता। वहीं, एक्सपर्ट का मानना है पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं को यह समस्या ज्यादा होती है माइग्रेन ने लगभग 20 प्रतिशत महिलाओं में पाया जाता है। लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं और न ही इसका उचित उपचार कराते हैं।

अगर आपको भी माइग्रेन की समस्या है तो आप इन छोटी- छोटी आदतों को अपनाकर इसे कंट्रोल कर सकते है, आईये जानते है…….

एक दिन में 8 से 10 ग्लास पानी जरूर पीना चाहिए इससे डिहाइड्रेशन की समस्या काम हो जाएगी डिहाइड्रेशन माइग्रेशन का सबसे बड़ा कारण होता है।

अगर उमस वाला मौसम हो तो में ऐसी चीजें खाने से बचे जिससे ज्यादा पसीना निकलता है जैसे- चाय, कॉफ़ी आदि। इसके अलावा ज्यादा मिर्ची ना खाए।

तुलसी का तेल माइग्रेन के दर्द में भी काफी प्रभावशाली है। इससे आप अपने सर में अच्छे से मालिश करें इससे माइग्रेन के दर्द में काफी आराम मिलता है।

जिन लोगों को माइग्रेन है उन्हें साधारण बटर की जगह पीनट बटर यानि मूंगफली से बनेबटर का इस्तेमाल करना चाहिये।

सिरदर्द के दौरान जी मचलाने या उल्टी होने जैसे लक्षणों हो तो अदरक को छीलकर टुकड़े करके पानी में उबालकर ठंडा कर ले और इस पानी में शहद और नींबू की कुछ बूंद डालकर पिए।

माइग्रेन के तेज़ दर्द में कॉफी पीने से तुरंत राहत मिलती है कॉफी में मौजूद कैफीन माइग्रेन में एडेनोसाइन के प्रभाव को कम कर देता है।

वास्तु दोष से भी हो सकती है सेहत संबंधी समस्या