नवजात शिशु के साथ हरगिज न करें ये लापरवाही

जब आपके जीवन में एक नन्हीं जान आ जाती है तो उससे आपका पूरा घर खुशियों से भर जाता है। लेकिन आपको बच्चे की देखभाल के लिए अधिक सतर्कता की आवश्यकता होती है। आपकी जरा सी भी लापरवाही नवजात शिशु के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकती है। तो चलिए जानते हैं नवजात की देखभाल करने के तरीके के बारे में-

नवजात शिशु के लिए मां का दूध किसी अमृत से कम नहीं है। खासतौर से, बच्चों को पहले छ महीने तक मां का दूध पिलाना बहुत जरूरी होता है। मां के दूध से बच्चों की हड्डिया मजबूत होने के साथ ही उनके शरीर का विकास अच्छे से होता है। वहीं दूसरी ओर, बच्चे को स्तनपान करवाने से मां को ब्रेस्ट कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का सामना नहीं करना पड़ता है।

नवजात शिशु के शरीर के अंग बहुत कमजोर होते है। उनको उठाते समय या सुलाते समय उनकी गर्दन के पीछे हाथ जरूर रखें। इसके साथ ही बच्चे को कभी भी हिलाए न एेसा करने से उसके मस्तिष्‍क में रक्‍तस्राव हो सकता है जो कभी-कभी जानलेवा भी साबित होता है।

छोटे बच्चों के लिए टीकाकरण का भी विशेष महत्व है। यह बेहद आवश्यक है कि आप सही समय पर टीकाकरण जरूर करवाए। कोई भी इंजेक्शन छूटने से शिशु को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए टीकाकरण करवाना जरूरी है।

बच्चों को कपड़े पहनाते समय इस बात का ध्यान रखें की कपड़े थोड़े ढीले हो। इसके साथ ही हमेशा कपड़े साफ सुथरे होने चाहिए, ताकि उन्हें किसी प्रकार के इंफेक्शन होने का खतरा न रहे।