यह खबर जरूर पढ़ें अगर आप दही नहीं खाते है !

आजकल की दुनिया मेंकोई भी ब्यक्ति पीछे रहना नहीं चाहता है। सभी अपना-अपना जीवनस्तर सुधारने के लिये दिन- रात लगातार काम करने में लगे रहते हैं ताकि बहुत सारा पैसा कमा सकें। लेकिन पैसे कमाने की इस भेड़ चाल में इंसान और मशीन के बीच का अंतर खत्म होता जा रहा है। नतीजा मानसिक दबाव, स्ट्रेस और डिप्रेशन के रूप में बाहर आता है। ये डिप्रेशन जितना खतरनाक दिमाग के लिये होता है उतना ही शरीर के लिये भी। अभी हाल ही में एक शोध में ये बात सामने आयी है कि डिप्रेशन से छुटकारा पाने में दही काफी मददगार होता है।

क्या है रिसर्च-
शोधकर्ताओं के मुताबि‍क, दही में पाए जाने वाला प्रो बैक्टीरिया यानि लैक्टोबैसिलस डिप्रेशन और एंग्जाइटी को दूर करता है। रिसर्च में पाया गया है कि ये मेंटल हेल्थ प्रॉब्लम्स, को भी दूर करता है। डिप्रेशन ऐसी समस्या है जिसका बहुत अच्छा इलाज मौजूद नहीं है और इसके बहुत सारे साइड इफेक्ट्स भी होते हैं।

ये रिसर्च कैसे की गई-
ये रिसर्च चूहों पर की गयी। चूहों पर की गई इस रिसर्च में ये पाया गया कि उनके खाने में लैक्टोबैसिलस की मात्रा कम थी तो वो डिप्रेशन में चले गये थे पर जब फिर लैक्टोबैसिलस खाने में दिया गया तो वो नॉर्मल हो गये थे। ऐसे में ये नतीजे सामने आएं हैं कि लैक्टोबैसिलस डिप्रेशन को कम करने के लिए जरुरी है। रिसर्च में ये बात भी सामने आयी कि पेट में लैक्टोबैसिलस का एमाउंट ब्लड में मेटाबॉलाइट के लेवल को इफेक्ट करता है। जो कि डिप्रेशन को ड्राइव करता है। और लैक्टोबैसिलस दही में ठीक मात्रा में पाया जाता है।

इसलिये अगर आप दही का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो आज से ही शुरु कर दीजिये। क्योंकि डिप्रेशन से छुटकारा दिलाने के अलावा ये आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता तो भी बहुत बढ़ाता है , साथ ही साथ इसमें पाया जाने वाला कैल्शियम आपकी हड्डियों को भी बहुत मजबूत बनाता है।

यह भी पढ़ें-

दाल खान है सेहत के लिये ज़रूरी !